संवाद सहयोगी, असंध : आंधी के साथ तेज बरसात के कारण मंडी में रखा गेहूं पुख्ता इंतजाम न होने के कारण भीग गया। किसानों का कहना है कि सरकार को खेतों से लेकर मंडी तक किसानों की फसल को सुरक्षित रखने के लिए प्रबंध करने चाहिए। जब भी किसानों की फसल पक कर तैयार होती है तो हर बार प्राकृतिक आपदा के कारण किसानों को नुकसान उठाना पड़ता है बावजूद सरकार व प्रशासन के पास फसल को बचाने के लिए कोई इंतजाम नहीं है। इस दौरान सायं के समय क्षेत्र में आई तेज आंधी के कारण सड़क पर पेड़ उखड़ कर व टूट कर गिर गए। मंडी सचिव कृष्ण धनखड़ का कहना है कि उन्होंने मौसम विभाग की भविष्यवाणी को देखते हुए दो दिन तक बरसात से बचने के लिए तिरपाल आदि की व्यवस्था करने के लिए मंडी प्रधान को आदेश दिए हुए थे। जो गेहूं भीगी है मंडी प्रशासन उसके लिए जिम्मेदार नहीं है।

Posted By: Jagran