राजा राम मोहन राय की जयंती पर लगाया रक्तदान शिविर जागरण संवाददाता, करनाल

सती प्रथा को समाप्त करने वाले राजा राम मोहन राय की जयंती पर राष्ट्रपति पुलिस पदक से सम्मानित डा. अशोक कुमार वर्मा द्वारा कल्पना चावला राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय में 402वां स्वैच्छिक रक्तदान शिविर आयोजित किया गया। कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से सेवानिवृत सहायक कुलसचिव दविदर सचदेवा की अध्यक्षता में शिविर हुआ, जबकि लखविदर पाल मक्कड मुख्य अतिथि रहे।

शिविर के संयोजक हरियाणा राज्य स्वापक नियंत्रण ब्यूरो में जागरूकता कार्यक्रम एवं पुनर्वास प्रभारी डा. अशोक कुमार वर्मा ने 149वीं बार रक्तदान किया। वर्ष 1989 से नियमित रक्तदान करने वाले उप निरीक्षक डा. अशोक कुमार वर्मा हरियाणा पुलिस के ऐसे अराजपत्रित पुलिस अधिकारी हैं जिन्होंने हरियाणा पुलिस के इतिहास में सबसे अधिक रक्तदान करने का एक रिकार्ड बनाया है। वह बिना किसी बैनर के अब तक 402 स्वैच्छिक रक्तदान शिविर आयोजित कर चुके हैं, जिसमे एकत्रित रक्त से 47637 लोगों को नवजीवन मिला है। उप निरीक्षक डा. अशोक कुमार वर्मा ने रक्तदाताओं का धन्यवाद करते हुए कहा कि आज युवा नशे के टीके लगाकर अपनी मृत्यु को आमंत्रित कर रहे हैं लेकिन रक्तदान करने वाले युवा अपनी नसों में टीका लगवाकर रक्त के माध्यम से लोगों को नवजीवन प्रदान करते हैं। शिविर में 21 युवाओं ने रक्तदान किया। जिसमें रेनू ने प्रथम बार रक्तदान किया।

इसके साथ ही विपिन, मोहित, अमन, अश्वनी, कुलदीप, उपेंद्र, विवेक, कुलदीप, गुरविद्र, दीपक, बलविदर, प्रिस, सुधीर व करमवीर फौजी ने रक्तदान किया। दयाल सिंह पब्लिक स्कूल में 160 को लगाया टीका

जागरण संवाददाता, करनाल:

सेक्टर सात स्थित दयाल सिंह पब्लिक स्कूल के प्रांगण में कोरोना वायरस के संक्रमण से विद्यार्थियों को सुरक्षित रखने एवं बचाव के लिए दूसरा वैक्सीन टीकाकरण शिविर लगाया गया। शिविर में विद्यालय के 12 से 14 आयु वर्ग के विद्यार्थी उपस्थित हुए, जिन्हें वैक्सीन की दूसरी डोज लगाई गई।

वैक्सीन लगवाने के लिए विद्यार्थियों के चेहरे पर उत्साह देखते ही बना। शरीर में कोरोना वायरस के खिलाफ एंटी बाडी बनाने में वैक्सीन को काफी कारगर माना जाता है। विद्यार्थियों ने कहा कि वैक्सीन की दूसरी डोज कोरोना से लड़ने में सहायक सिद्ध होगी। प्रधानाचार्य शालिनी नारंग ने ने बताया कि विद्यालय में 12 से 14 वर्ष के लगभग 160 विद्यार्थियों को कोरोना संक्रमण से बचाव का दूसरा टीका लगाया गया। 21 अध्यापक-अध्यापिकाओं को बूस्टर डोज लगाई गई। उन्होंने कहा कि टीकाकरण परिवार और समुदाय को सुरक्षित रखने के लिए सुरक्षा कवच का काम कर रहा है। इसके महत्व के बारे में जागरूकता फैलाई जाए।

मुख्याध्यापिका मधु ग्रोवर ने कहा कि सतत विकास लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए टीकाकरण का प्रसार महत्वपूर्ण है।

प्रताप पब्लिक स्कूल में ड्रग्स के खतरे के प्रति किया सचेत

जागरण संवाददाता, करनाल:

जरनैली कालोनी स्थित प्रताप पब्लिक स्कूल में ड्रग्स के खतरे के प्रति सचेत करने के लिए जागरूकता सप्ताह मनाया गया। इस दौरान कक्षा सात से दसवीं के छात्रों के लिए पोस्टर बनाना, ड्रग्स को न कहें विषय पर स्लोगन लेखन जैसी गतिविधियों का आयोजन किया गया।

जागरूकता सप्ताह के समापन पर विशेष प्रात: कालीन सभा का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि डा. हवा सिंह ने नशे से दूर रहने के महत्व पर विस्तार से बात की और छात्रों से नशे से दूर रहने का आग्रह किया। डा. हवा सिंह ने किशोरों के बीच नशीली दवाओं के दुरुपयोग के खिलाफ जागरूकता की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि माता-पिता और स्कूल के सहयोगात्मक कदम नशीली दवाओं के दुरुपयोग का खतरा प्रभावी ढंग से रोक सकते हैं। उनका मुकाबला कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि व्यसन को चरित्र दोष के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए, बल्कि ऐसी बीमारी के रूप में देखा जाना चाहिए, जिससे कोई अन्य व्यक्ति जूझ सकता है। प्रधानाचार्य पूनम नेवट ने नशीली दवाओं के परिणामों के बारे में जागरूक करने के लिए मुख्य अतिथि के प्रति कृतज्ञता व्यक्त की।

Edited By: Jagran