जागरण संवाददाता, करनाल : पुलिस की कड़ी निगरानी के बावजूद करनाल नशीले पदार्थों का गढ़ बनता जा रहा है। दूसरे प्रदेशों से भी नशीले पदार्थों की तस्करी का अवैध कारोबार लगातार जारी है। यहां शराब से लेकर अन्य नशीले पदार्थ भी धड़ल्ले से लाए जा रहे हैं। इसी क्रम में सीआइए वन की टीम ने झारखंड से डोडापोस्त की तस्करी किए जाने का भंडाफोड़ किया है।

शनिवार को पुलिस ने डोडापोस्त के 13 कट्टों से लदा एक टैंपो पकड़ा, जो दोपहर के समय ही करनाल लाया जा रहा था। पुलिस टीम ने तीन आरोपितों को भी काबू किया है, जिनकी पहचान दीपक कुमार वासी रमेश नगर नगला चौक, धीर सिंह उर्फ धीरा वासी दयानगर तरावड़ी व उल्लास मैहतो उर्फ राजवीर वासी केंदवाडी थाना झालदा जिला पुरुलिया पश्चिम बंगाल हाल तरावड़ी के तौर पर हुई। आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया।

---------------------

मुनाफा कमाने के प्रयास में थे आरोपित

आरोपितों से पूछताछ की गई तो पता चला कि वे यह नशीला पदार्थ झारखंड से सस्ते दाम पर खरीद कर लाए थे, ताकि करनाल में महंगे दामों पर बेचकर मोटा मुनाफा कमा सकें। पुलिस को आशंका है कि इसमें गिरोह शामिल हो सकता है। ऐसे में पुलिस ने तीनों आरोपितों को अदालत में पेश कर उन्हें नौ दिन के लिए रिमांड पर लिया है। जिस दौरान उनसे गहनता से पूछताछ की जाएगी ताकि यह नशीला पदार्थ बेचने वाले व मुख्य सरगना तक पहुंचा जा सके। --------------

नशीले पदार्थो की तस्करी बनी चुनौती

कोरोना महामारी के चलते लाकडाउन लागू किए जाने के बावजूद नशीले पदार्थों की तस्करी जारी रही। करीब 15 दिन पहले ही पंजाब व हिमाचल प्रदेश से गाड़ी में भरकर लाई जा रही शराब की बड़ी खेप पकड़ी थी। जिले में स्थानीय स्तर पर भी अवैध शराब की तस्करी के दर्जन भर से अधिक मामले पिछले दो दिन के दौरान सामने आ चुके हैं। ऐसे में पुलिस के समक्ष नशीले पदार्थो की तस्करी पर अंकुश लगाना चुनौतीपूर्ण बना हुआ है।

-------------

पुलिस पूरी तरह अलर्ट : एसपी

एसपी गंगाराम पूनिया का कहना है कि नशीले पदाथरें की तस्करी पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस पूरी तरह अलर्ट है। एंटी नारकोटिक सैल के साथ-साथ हर चौकी व थाना पुलिस को इस संबंध में कड़े निर्देश दिए गए हैं। आरोपितों की धरपकड़ भी लगातार की जा रही है। आमजन भी इसमें सूचना देकर पुलिस का सहयोग कर सकता है। सूचना देने वाले का नाम गुप्त रखा जाएगा।

Edited By: Jagran