संवाद सूत्र, निसिग : मंडी में पीआर धान का सीजन जोरों से चल रहा है। किसानों को ऑनलाइन पोर्टल रास नहीं आ रहा है। गेट पास के लिए किसानों को लाइनों में लगना पड़ता है। विभाग की साइट सुचारू रूप से नहीं चलने से किसानों को परेशानी हो रही है। अनाजमंडी में प्रतिदिन करीब 12 से 15 हजार क्विंटल धान की आवक है, मिली जानकारी के अनुसार निसिग मंडी में खरीद एजेंसी डीएफएस ने करीब 7133 एमटी व हैफेड ने 18 हजार क्विंटल धान खरीदा है। वहीं खरीद एजेंसियां धान के उठान समय पर होने का दावा कर रही है, लेकिन मंडी धान से भरी बोरियों से अटीं पड़ी है। डीएफएससी इंस्पेक्टर देवेंद्र ने बताया कि निसिग मंडी में आसपास के एरिया से आए राइस मिल धान की खरीद कर रहे हैं। धान के दामों में भी बढ़ौतरी देखने को मिल रही है। खरीद एजेंसी हैफेड के इस्पेंक्टर दर्शन सिंह ने बताया कि गेटपास के पोर्टल में बाधा होने के कारण धान के गेटपास समय पर नहीं कट रहे है। जिससे धान का समय पर उठान होने में परेशानी हो रही है। रोजाना खरीदे गए धान का 50 फीसद माल का उठान हो जाता है। गेट पास लेने के लिए किसानों की लगी रहती भीड़

फसल बेचने के लिए किसान को पहले मंडी के मेन गेट पर बने कैबिन से फसल का गेट पास लेना अनिवार्य है। किसान कैबिन के बाहर भीड़ लगाए खड़े रहते हैं। पोर्टल की साइट स्लो चलने के कारण गेट पास कम संख्या में कट रहे हैं। गेट पास लेने के लिए कभी किसान तो कभी मुनीम समय बदल बदल कर लाइन में खड़े होते हैं। जिससे परेशानी हो रही है।

Edited By: Jagran