जागरण संवाददाता, करनाल : शहरवासियों के लिए राहत भरी खबर है। अब उन्हें बढ़े हुए पानी के रेट के अनुसार बिल नहीं देना पड़ेगा। सरकार ने नए आदेशों में इस फैसले को वापस ले लिया है। अब लोगों को पुराने रेट के अनुसार ही बिल देना होगा। इन आदेशों को तुरंत प्रभाव से लागू कर दिया गया है। बिल भी जनरेट करना शुरू कर दिए गए हैं।

गौरतलब है कि सरकार ने सितंबर 2018 में नोटिफिकेशन जारी कर पानी के रेट चार गुणा तक बढ़ा दिए थे। लेकिन तकनीकी खामियों के कारण बढ़े हुए बिल नहीं बन पाए। लोगों ने नगर निगम में पिछले दिनों हंगामा भी किया था। नए आदेशों से करीब 40 हजार लोगों को फायदा मिलेगा।

पानी के बढ़े हुए रेट का यह था असर

घरेलू उपभोक्ताओं को पानी-सीवर का नया कनेक्शन के लेने के लिए 1500 रुपये देने का प्रावधान किया गया। जबकि व्यवसायिक के लिए 5000 रुपये सीवर और 5000 रुपये पेयजल कनेक्शन के लिए अदा करने पड़ रहे थे। घरेलू कनेक्शन पर 10 किलोलीटर तक के लिए 2:50 रुपये, 20 किलोमीटर तक पांच रुपये, 20 किलोमीटर से अधिक और 30 तक आठ रुपये, 30 किलोलीटर से अधिक 10 रुपये प्रति किलोलीटर के हिसाब से रुपये अदा करने के निर्देश जारी हुए थे। इसमें शर्त लगाई गई है कि अगर घरेलू कनेक्शन का व्यवसायिक में प्रयोग होता है तो मीटर युक्त 15 रुपये प्रति लीटर और बिना मीटर कनेक्शन पर 1000 रुपये प्रति माह वसूला जाएगा। नए नियमों के अनुसार प्लॉट के साइज पर भी बिल निर्भर रहेगा।

आदेश विड्रो करने के बाद हमें यह देना होगा बिल

जिन घरेलू पानी कनेक्शन पर वाटर मीटर लगे हुए हैं उनको 60 रुपये प्रति माह ही देने होंगे। जिन पर मीटर नहीं लगे हुए हैं उनके लिए 120 रुपये प्रति माह देने का प्रावधान किया गया है। इसके अलावा कमर्शियल कनेक्शनों के लिए 125 रुपये प्रतिमाह से बिल अदा करना होगा। पानी के कनेक्शन की फीस तीन हजार रुपये की गई है, जबकि बढ़े हुए रेट में यह 5 हजार रुपये की गई थी।

करीब एक साल से नहीं बंट पाए बिल

सरकार की ओर से जैसे ही पानी के रेट बढ़ाने का निर्णय लिया गया उसके बाद पूरी व्यवस्था बेपटरी हो गई। लोग विरोध में उतर आए। नए नोटिफिकेशन के अनुसार बिल नगर निगम की ओर से जनरेट नहीं हो पाए। तकनीकी खामियों के कारण बढ़े हुए पानी के रेट के अनुसार बिल नहीं बंट पाए। अब निगम पुराने रेट के अनुसार बिल जनरेट करेगा और लोगों को बांटेगा। जनस्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार सितंबर 2018 से पहले 38610 पानी-सीवर उपभोक्ता साल में ढाई करोड़ रुपये तक रेवन्यू जमा करवा रहे थे। सरकार की ओर से नया नोटिफिकेशन आ गया है। बढ़े हुए पानी के रेट वापस लेने का फैसला किया गया है। अब लोगों को पुराने रेट से ही बिल भरने होंगे। तकनीकी खामियों के कारण बढ़े हुए रेट के बिल भी जनरेट नहीं हो पाए थे।

सत्यप्रकाश जोशी, एक्सईएन, नगर निगम, करनाल।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप