संवाद सहयोगी, घरौंडा(करनाल) : गांव ¨डगरमाजरा के 50 राष्ट्रीय राइफल के हवलदार बलजीत ¨सह (35 वर्ष) पुत्र किशनचंद श्रीनगर के पुलवामा में आतंकवादियों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए। बलजीत ¨सह के शहीद होने की सूचना मिलते ही गांव में शोक की लहर दौड़ गई।

सोमवार की रात ढाई बजे सेना के जवानों को पुलवामा के पास तीन आतंकवादियों के होने की सूचना पहुंची तो बलजीत सिंह साथी जवानों के साथ आतंकवादियों की घेराबंदी के लिए पहुंचे। बलजीत ऑफिसर जेसीओ के साथ सर्च अभियान की अगुवाई में शामिल थे। मुठभेड़ में बलजीत ने एक आतंकवादी को फायर कर मार गिराया, लेकिन सामने से आतंकवादियों की फाय¨रग में बलजीत ¨सह को दो गोली लगी। एक अन्य साथी सिपाही को गोली लगी। दोनों घायल जवानों को सेना के अस्पताल पहुंचाया गया। तब तक हवलदार बलजीत व उसका साथी सिपाही शहीद हो चुके थे।

जनवरी 2002 में 2 मैक इनफैंटरी में भर्ती हुए थे बलजीत

जनवरी 2002 में हवलदार बलजीत ¨सह 2 मैक इनफैंटरी में भर्ती हुए थे व महाराष्ट्र के अहमदनगर में ट्रे¨नग की थी। अच्छी फिटनेस के चलते हवलदार बलजीत ने एनएसजी कमांडो की ट्रे¨नग पूरी की। वर्ष 2015 से वर्ष 2017 तक नई दिल्ली में एनएसजी में वीवीआइपी ड्यूटी में तैनात रहे। इससे पहले भी तीन साल तक हवलदार बलजीत राष्ट्रीय राइफल में पो¨स्टग रह चुका थे व अब दोबारा से लगभग पिछले तीन वर्षो से 50 राष्ट्रीय राइफल में श्रीनगर क्षेत्र में तैनात थे।

पीछे तीन वर्षीय बेटा व सात वर्षीय बेटी

शहीद बलजीत के परिवार में पत्नी अरुणा, तीन वर्षीय बेटा अरनव, सात वर्षीय बेटी जन्नत, 75 वर्षीय किसान पिता किशनचंद, बड़ी बहन नीलम, बड़ा भाई किसान कुलदीप हैं। बहन नीलम की करनाल के नेवल गांव में शादी हुई है। शहीद की माता मूर्ति का पहले ही निधन हो चुका है। शहीद के ताऊ का लड़का भी श्रीनगर में ही राष्ट्रीय राइफल में इस समय तैनात हैं।

नौ बजे होगा शहीद का अंतिम संस्कार

परिवार के सदस्य जसमेर लाठर के अनुसार सेना की ओर से सूचना मिली थी कि मंगलवार शाम सेना के जहाज में शहीद हवलदार बलजीत का पार्थिव शरीर अंबाला सेना एयरपोर्ट पहुंचाया जाएगा। भाई कुलदीप व परिवार के अन्य सदस्य अंबाला के लिए रवाना हो गए थे। रात होने के कारण शहीद का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ बुधवार सुबह पैतृक गांव ¨डगर माजरा में सुबह नौ बजे किया जाएगा।

सांत्वना देने पहुंचे विधायक हर¨वद्र कल्याण

हैफेड चेयरमैन एवं विधायक हर¨वद्र कल्याण स्थानीय प्रशासनिक अधिकारी एसडीएम मोहम्मद इमरान रजा, नायब तहसीलदार रामकुमार, घरौंडा थाना प्रभारी दीपक कुमार व जिला सैनिक बोर्ड के अधिकारी के साथ परिवार के लोगों को सांत्वना देने पहुंचे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस