संवाद सूत्र, कुंजपुरा: कुछ माह पूर्व गर्भपात के लिए जिला नागरिक अस्पताल के प्रसूति कक्ष से फरार हुई महिला से जुड़े मामले में नया मोड़ आ गया है। इसके तहत लिव इन रिलेशन में रहते हुए उसने प्रेमी के घर ही बेटी को जन्म दिया है।

बता दें कि तीन माह की गर्भावस्था के दौरान गर्भपात कराने के लिए महिला जिला नागरिक अस्पताल में भर्ती हुई थी। इसके लिए उसने अदालत से कानूनी तौर पर इजाजत ली थी। बाद में वह अस्पताल से फरार हो गई थी और अब उसने बेटी को जन्म दिया है।

अस्पताल में महिला का गर्भपात कराने के लिए सीएमओ की ओर से बाकायदा डाक्टरों के एक बोर्ड का गठन भी किया था, लेकिन कुछ घंटे अस्पताल में भर्ती रहने के बाद महिला प्रसूति कक्ष से स्वजनों और अस्पताल कर्मियों को चकमा देकर कथित प्रेमी के साथ चली गई। घटनाक्रम के बाद महिला के स्वजनों ने थाना सिविल लाइन में उसी युवक के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज करा दिया, जिस पर पहले दुष्कर्म का केस दर्ज कराया था। हालांकि कथित अपहरण का मामला ज्यादा दिन नहीं टिक सका। महिला के स्वेच्छा से प्रेमी के साथ जाने के बयान पर पुलिस को मामला खारिज करना पड़ा। इसी दौरान पुलिस ने महिला के अदालत में धारा 164 के तहत बयान भी दर्ज करवाए।

महिला ने अदालत के समक्ष दिए बयान में बताया था कि वह पिछले करीब पांच माह से अपने प्रेमी के साथ लिव इन रिलेशन में रह रही है और उसी के साथ रहना चाहती है। बयान के बाद तीन बच्चों की मां यह महिला अदालत से ही प्रेमी के साथ चली गई जबकि उसका पति तीनों बच्चों के साथ घर लौट गया था। सूत्रों के अनुसार अभी तक महिला व उसके पति का कानूनी तौर पर तलाक नहीं हुआ है। इस बीच मामले में कई प्रकार के उतार-चढ़ाव आते रहे और अब जाकर महिला ने अपने प्रेमी के घर पर ही बच्ची को जन्म दिया है। इसी के साथ एक बार फिर यह महिला और उससे जुड़ा घटनाक्रम नए सिरे से चर्चा में आ गया है। वहीं, महिला के परिवार से जुड़े लोग इसे लेकर कुछ बोलने को तैयार नहीं हैं

Edited By: Jagran