संवाद सहयोगी, घरौंडा : हरियाणा पुलिस परिसर स्थित पुलिस शहीदी स्मारक पर पुलिस स्मृति दिवस कार्यक्रम का आयोजन हुआ। कर्तव्य-वेदी पर बलिदान हुए बहादुर पुलिस कर्मियों को श्रद्धांजलि दी गई। सशस्त्र पुलिस टुकड़ी ने बलिदानी पुलिसकर्मियों को सलामी दी तथा मुख्य शोककर्ता के रूप में हरियाणा पुलिस अकादमी के निदेशक डा. सीएस राव व उपस्थित अधिकारियों ने पुष्पचक्र और कर्मचारियों व प्रशिक्षणार्थियों ने पुष्प मालाएं अर्पित कर शहीदों को नमन किया। इस वर्ष यह स्मृति दिवस कोरोना महामारी के दौरान कर्तव्य निभाते हुए प्राणों का बलिदान देने वाले पुलिसकर्मियों को समर्पित रहा। पुलिसकर्मियों के सर्वोच्च बलिदान को सम्मान प्रदान करने के लिए इस दिन को पुलिस झंडा दिवस के रूप में भी मनाया जाता है।

मुख्य शोककर्ता डा.राव ने बताया कि पुलिस स्मृति दिवस प्रत्येक वर्दीदारी के सम्मान का सूचक है इस दिन पुलिस व नागरिक राष्ट्र और नागरिकों की सेवा करते हुए प्राण न्यौछावर करने वाले सभी वीर सपूतों को श्रद्धांजलि अर्पित करने और उनके अतुल्य बलिदान के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए एकत्रित होते हैं। अदम्य साहसी जवानों के सम्मान में मनाया जाता है पुलिस स्मृति दिवस

डा. राव ने बताया कि 21 अक्टूबर 1959 को समुद्र तल से 4681 मीटर की ऊंचाई पर हिमालय पर्वत के हाट स्प्रिंग स्थान पर केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की टुकड़ी के 10 बहादुर जवान देश की सीमा की रक्षा करते हुए शहीद हुए थे। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के इन जवानों ने डीएसपी करम सिंह की अगुवाई में चीनी सैनिकों का डटकर मुकाबला किया था। इन अदम्य साहसी जवानों के सम्मान में वर्ष 1960 से 21 अक्तूबर को पुलिस स्मृति दिवस के रूप में मनाया जाना आरम्भ हुआ। इस दिन भारत के समस्त पुलिस बल अपनी-अपनी इकाइयों में पुलिस स्मृति दिवस परेड आयोजित करते हैं और वीर पुलिसकर्मियों व उनके बलिदान को याद करते हैं। शहीदों के नाम लिखी पुस्तिका को सम्मान गार्द द्वारा स्मारक स्थल पर लाया जाता है। इस पुस्तिका के आगमन पर सशस्त्र टुकड़ी इसे सलामी देती है तथा उपस्थित वर्दीधारी सैल्यूट करते हैं। इस साल कर्तव्य निभाते हुए शहीद हुए 377 पुलिसकर्मी

इस दिन वर्ष में शहीद हुए पुलिसकर्मियों के नामों को पढ़कर उन्हें याद किया गया है। इस वर्ष 1 सितम्बर 2020 से 31 अगस्त 2021 तक कर्तव्य निभाते हुए 377 पुलिसकर्मी शहीद हुए। मुख्य शोककर्ता डा. सीएस राव, निदेशक हरियाणा पुलिस अकादमी, पंचम वाहिनी के आदेशक राजेन्द्र कुमार मीणा, अकादमी के पुलिस अधीक्षक राजेश कालिया ने इन सभी के नाम पढ़े। पुलिस स्मृति परेड की अगुवाई अकादमी के पुलिस उप-अधीक्षक अनिरूद्ध चौहान ने की। लोक संपर्क विभाग, करनाल के कलाकारों द्वारा देशभक्ति गीतों के माध्यम से शहीदों को याद किया गया। मधुबन शहीद स्मारक में हुए इस कार्यक्रम में पुलिस उप-महानिरीक्षक किरतपाल सिंह, पंचम वाहिनी के आदेशक राजेन्द्र कुमार मीणा, अकादमी के पुलिस अधीक्षक राजेश कालिया सहित मधुबन परिसर के अधिकारियों, पुलिसकर्मियों व प्रशिक्षणार्थियों ने पुष्प अर्पित करते हुए बलिदानियों के प्रति सम्मान व्यक्त किया।

Edited By: Jagran