संवाद सूत्र, निसिग : कस्बे के मुख्य बाजार स्थित ओबीसी बैंक की स्थानीय शाखा में सफाई कर्मी व चपरासी के तौर पर कार्यरत युवक ने शुक्रवार सुबह संदिग्ध हालात में फंदा लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। ड्यूटी पर पहुंचे बैंक के सुरक्षा गार्ड ने फंदे पर लटके युवक को देख घटना की सूचना पुलिस व बैंक मैनेजर को दी। पुलिस ने मौके पर स्वजनों को बुलाया। एफएसएल की टीम ने भी घटनास्थल पर पहुंच जांच कर साक्ष्य जुटाए।

पुलिस ने मृतक सफाई कर्मी के पिता की शिकायत पर फिलहाल सीआरपीसी की धारा 174 के तहत कार्रवाई कर पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। पुलिस के अनुसार ब्रास निवासी करीब 20 वर्षीय मृतक युवक राहुल के पिता तेजपाल ने बताया कि बीते करीब दो-तीन वर्षों से उसका बेटा राहुल ओबीसी बैंक की स्थानीय शाखा में अस्थाई तौर पर बतौर सफाई कर्मी कार्यरत था। वह रोज की भांति सुबह करीब आठ बजे घर से बैंक ड्यूटी के लिए निकला था। करीब 10 बजे उनके पास राहुल द्वारा बैंक के स्टाफ रूम में फंदा लगाने की सूचना आई। आनन-फानन में वे मौके पर पहुंचे तो वह फंदे पर ही था।

उन्होंने बताया कि वह समझ नहीं पाए कि आखिर उसने यह कदम क्यों उठाया। वहीं पुलिस से भी फिलहाल आत्महत्या के कारणों की पुष्टि नहीं हो पाई। गौरतलब है कि ओबीसी को पंजाब नेशनल बैंक में मर्ज कर दिया गया है, जिस कारण बैंक शाखा के आगे ओबीसी के बजाय पंजाब नेशनल बैंक का बोर्ड लगा है। आखरी बार की बैंक में सफाई

बताया जा रहा है कि सफाई कर्मी राहुल ने करीब पौने नौ बजे बैंक में प्रवेश किया। उसने बैंक में लगे टेबल व शीशों की सफाई की। पानी का कैंपर भरा। उसके बाद सभी टेबल पर पानी की बोतलें रखी। इसके बाद वह बैंक के स्टाफ रूम कम चेंजिग रूम में चला गया, जिसमें सीसीटीवी कैमरा नहीं लगा था। अचानक युवक द्वारा आत्महत्या का अप्रत्याशित कदम उठाने से परिजन व ग्रामीण सकते में है। वहीं युवक की मौत से गांव में मातम पसर गया।

Edited By: Jagran