संवाद सूत्र, नीलोखेड़ी : डीएवी पब्लिक स्कूल में आयोजित विज्ञान प्रदर्शनी में बच्चों ने अनुपयोगी वस्तुओं को उपयोग में लाकर बेहतरीन मॉडल बनाए। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि स्कूल प्रबंधक राकेश संधू ने शिरकत की। जबकि अध्यक्षता प्रधानाचार्य दीपक मिगलानी ने की। कार्यक्रम का संचालन रितु, कुमारी रीना और हरप्रीत ने किया। प्रतियोगिता में नर्सरी कक्षा से लेकर 12वीं कक्षा तक के बच्चों ने भाग लिया। बच्चों ने पेरिस्कोप, किडनी, हार्ट, जेबीसी, बिजली का लैंप और कूलर के मॉडल बनाकर सबका मन मोह लिया। मुख्य अतिथि ने बच्चों से हर मॉडल के बारे में जानकारी ली। उन्होंने बताया कि कि बच्चे राष्ट्र का भविष्य है और इन प्रतियोगियों के माध्यम से ही बच्चों की प्रतिभाएं बाहर निकलकर आती है। उन्होने कहा कि बच्चों के बनाए मॉडल से पता लगता है कि उनका मस्तिष्क विकसित हो चुका है उन्हें आने वाले समय की जानकारी हो रही है। वायु में कितना प्रदूषण बढ़ चुका और जल की कमी होती जा रही है। उन्होंने कहा कि डीएवी संस्थान में केवल किताबों को ही नहीं पढ़ाया जाता, बल्कि प्रैक्टिकल की जानकारी दी जाती है। प्रतियोगिताओं के लिए बच्चों में अनुशासनता और एकता की भावना पैदा होती है, जो सभी को एक सूत्र में बांधने का काम करता है। यह सब एक अच्छे स्कूल से ही प्राप्त होता है। इस अवसर प्रधानाचार्य दीपक मिगलानी ने कहा कि बच्चे केवल पढ़ाई की और ध्यान देकर स्कूल में होने वाली प्रतियोगिताओं में भी भाग लेना चाहिए। मॉडल में नीरज, हर्ष, अंशिका, एकमप्रीत, हनीष, ध्रुव और नितिन के मॉडल उत्कष्ट रहे।

Posted By: Jagran