जागरण संवाददाता, करनाल : मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने रविवार को लोक निर्माण विभाग के विश्राम गृह में सब नेशनल पल्स पोलियो प्रोग्राम अभियान की शुरुआत जीरो से पांच वर्ष तक की आयु के बच्चों को पोलियोरोधी दवा पिलाकर की। मुख्यमंत्री ने कहा कि एक भी बच्चा छूट गया-समझो सुरक्षा चक्र टूट गया। इसलिए जीरो से पांच वर्ष तक की आयु के बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पोलियोरोधी दवा पिलानी जरूरी है। प्रदेश में जनवरी 2010 से कोई पोलियो का केस नहीं आया है और भारतवर्ष में जनवरी 2011 से पोलियो का कोई केस नहीं मिला है। इसलिए भारत देश को 11 फरवरी 2014 को पोलियो मुक्त घोषित कर दिया गया है। परंतु भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान व अफगानिस्तान में अभी भी पोलियो के केस मिल रहे हैं, जिसकी वजह से भारत में पोलियो केस का खतरा बना रहता है। इसीलिए पोलियो उन्मूलन अभियान भारत में बार बार चलाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार हरियाणा के 13 जिलों में 26 सितंबर से 28 सितंबर तक सब-नेशनल पल्स पोलियो अभियान जारी रहेगा। जिले एक लाख 99 हजार 898 बच्चों को दवाई पिलाई जाएगी। सीएमओ डा. योगेश शर्मा ने बताया कि सब नेशनल पल्स पोलियो अभियान के सफल आयोजन को लेकर स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिले में 856 बूथ और 1520 हाउस-टू-हाउस टीमें बनाई गई हैं। जिनकी निगरानी 145 सुपरवाइजर द्वारा की जाएगी। करनाल जिले मे कुल 67 मोबाइल टीमों जिसमें 31 ट्रांजिट टीम तथा कुल 3408 कर्मचारी भाग लेंगे, इसके लिए सारी तैयारियां हो चुकी है। रेलवे स्टेशनों व बस स्टैंड पर पोलियो बूथ बनाए गए हैं। इस दौरान उपायुक्त निशांत कुमार यादव, पुलिस अधीक्षक गंगाराम पुनिया, नगर निगम के आयुक्त मनोज कुमार, मेयर रेणु बाला गुप्ता, भाजपा के जिलाध्यक्ष योगेन्द्र राणा, मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि संजय बठला, भाजपा के जिला कोषाध्यक्ष बृज गुप्ता, हरियाणा सफाई कर्मचारी आयोग के सदस्य आजाद सिंह मौजूद रहे।

Edited By: Jagran