संवाद सहयोगी, असंध: कस्बे की सड़कों पर निजी वाहन नियमों को दरकिनार कर मौत बनकर दौड़ रहे हैं। कब कोई हादसा हो जाए कुछ पता नहीं है। पिछले दिनों करनाल के इंद्री मार्ग पर स्कूल वैन के हादसे के बाद भी प्रशासन व परिजनों ने कोई सबक नहीं लिया। हर रोज कंडम हुए वाहनों में बच्चे मौत का सफर करते हैं। इसको लेकर प्रसाशन अलर्ट नहीं है। क्षेत्र में कंडम निजी वाहन नियमों को तोड़कर धड़ल्ले से मौत बनकर दौड़ रहे है। ये वाहन चालक पैसा ज्यादा कमाने के चक्कर में सवारियों के साथ स्कूलों के बच्चों की जिदगी से बैखोफ खिलवाड़ कर रहे हैं। इन तिपहिया वाहनों के चालक पैसा ज्यादा कमाने के चक्कर में नियमों की धज्जियां उड़ाकर 15-20 सवारियां भरकर कर और छत पर बैठाकर राहड़ा से असंध दौड़ रहे है। राहड़ा से असंध तीन दर्जन से ज्यादा प्राइवेट कंडम वाहन दौड़ रहे हैं। परंतु प्रशासन इन्हें रोकने पर असमर्थ साबित हो रहा है। यह कहते हैं ग्रामीण

ग्रामीण जगमाल, संदीप, जगरूप, श्यामा, दिलावर, रघबीर, श्यामबीर, रामबीर ने बताया कि राहड़ा से असंध निजी वाहन चालक ज्यादा पैसे कमाने के चक्कर में 15 से 20 सवारियां भरकर बेखौफ दौड़ रहे हैं। इन्हें रोकने वाला कोई नहीं है। ये वाहन चालक नियमों ताक पर रखकर अक्षमता से बहुत ज्यादा सवारियां को छत पर बिठाकर उनकी जिदगी से खिलवाड़ कर रहे हैं।

असंध के कई गांव में बसों की सर्विस न के बराबर है इसके चलते मजबूर होकर लोगों को इन वाहनों में जाना पड़ता है। कई बार शिकायत भी की जा चुकी है लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। ग्रामीणों ने सरकार से गुहार लगाई है कि सभी रूटों पर सरकारी बसों की संख्या बढ़ाई जाये। मामला अभी संज्ञान में आया है। जो भी वाहन चालक नियमों को उल्लंघन करते पाया जाएगा, उसका चालान काटा जाएगा। कंडम वाहन को इंपाउंड किया जाएगा। सवारियों की जिदगी से खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

-जगबीर सिंह, थाना प्रभारी

Posted By: Jagran