जागरण संवाददाता, करनाल : जिला जेल की सुरक्षा में तैनात बीएसएफ जवान की ड्यूटी के दौरान संदिग्ध परिस्थितियों में छत से गिरने से मौत हो गई। इस घटना से जेल प्रशासन व बीएसएफ के अधिकारियों में हड़कंप मच गया। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद स्वजनों को सौंप दिया, जो उसे लेकर अपने पैतृक गांव रवाना हो गए। उनके साथ बीएसएफ के जवान भी रवाना हुए। सलामी के साथ शव का अंतिम संस्कार किया जाएगा। जानकारी के अनुसार राजस्थान के सीकर जिला के गावं रत्नपुरा वासी सागरमल बीएसफ में तैनात था। जिला जेल की सुरक्षा में तैनात बीएसएफ की एक कंपनी में वह भी शामिल था। वह शनिवार को जिला जेल की छत पर बनी बुर्जी नंबर दो पर तैनात था। दोपहर के समय अचानक वह नीचे गिरकर घायल हो गया। आनन-फानन में उसे कल्पना चावला राजकीय अस्पताल में दाखिल कराया, जहां देर रात मौत हो गई। घटना की सूचना पाकर भाई धर्मेंद्र सहित परिवार के अन्य लोग भी यहां पहुंचे। ---------------------------

जवानों में शोक की लहर

घटना से जिला जेल में तैनान बीएसएफ के अन्य जवानों में शोक की लहर दौड़ गई। वह छत से आखिर कैसे और क्यों गिरा, यह फिलहाल कोई भी समझ नहीं पाया है। जवानों का कहना था कि वह हसंमुख स्वभाव का था और डयूटी पर तैनाती से पहले वह सभी से खुशी-खुशी बातचीत कर रहा था। उसकी शादी भी कुछ समय पहले ही हुई थी और कुछ दिनों बाद ही वे पिता बनने वाला था।

--------------------

बीएसएफ की दो प्लाटुन हैं जेल की सुरक्षा में तैनात

जिला जेल की सुरक्षा में डिप्टी कमांडेंट रामभज हुड्डा के नेतृत्व में बीएसएफ की दो प्लाटुन तैनात हैं, जिसमें करीब 44 से अधिक जवान शामिल हैं। जेल के कैथल रोड पर स्थित मुख्य गेट से लेकर हर ओर इन जवानों का ही पहरा है। जेल की गार्द व पुलिस अपने स्तर पर सुरक्षा व्यवस्था में होती है।

-------------------------

नीचे पड़ा मिला सागरमल : कृष्ण कुमार

रामनगर थाने के जांच अधिकारी एसआइ कृष्ण कुमार का कहना है कि जेल के अन्य सुरक्षाकर्मियों ने देखा तो बुर्ज नंबर दो पर तैनात सागरमल पक्के फर्श पर पड़ा था। उसे कल्पना चावला राजकीय अस्पताल लेकर आए, जहां उसकी मौत हो गई। बीएसएफ के सीएचएम भागवंत मांदी के बयान पर सामान्य कार्रवाई करते हुए शव पोस्टमार्टम के बाद स्वजनों को सौंप दिया।

--------------------------------

छत से करीब पांच फुट उंची है दीवार : अधीक्षक

जेल अधीक्षक अमित कुमार का कहना है कि जेल की सुरक्षा व इसमें लगे जवानों की पूरी जानकारी बीएसएफ के अधिकारियों के पास ही होती है, लेकिन छत पर बनी बुर्जी से जवान कैसे और क्यों गिरा, वे भी नहीं समझ पाए हैं। फिलहाल रामनगर थाना पुलिस ही मामले की जांच कर रही है।

Edited By: Jagran