जागरण संवाददाता, करनाल : ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय के सेक्टर सात स्थित सेवा केंद्र में होली पर्व हर्षोल्लास से मनाया गया। केंद्र की प्रमुख बीके प्रेम दीदी ने होली के आध्यात्मिक रहस्य पर अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि कुछ त्योहार देवताओं के साथ जुड़े हैं तो कुछ सामाजिक महत्व रखते हैं। होली आत्मा का परमात्मा से मिलन मनाने का उत्सव है। आत्मा रूप हम सब आपस में भाई-भाई अथवा भाई बहन हैं। उन्होंने कहा कि जैसे हम होली दहन में कांटों की लकड़ी व उपले जलाते हैं उसी तरह हमें एक दूसरे के दुख देने वाले बोल, ईष्र्या, द्वेष रूपी कांटों को जलाना है। कार्यक्रम में काजल और पूर्णिमा ने शिव बाबा के गीतों पर सुंदर नृत्य प्रस्तुत कर सभी का मन मोहा।

इस अवसर पर ब्रह्माकुमारी शिखा, केहर सिंह चोपड़ा, शमशेर सिंह संधू, ईश्वर रमन, डॉ. उत्तम सिंह, डॉ. एनके, जगदीश कादियान, सुरेश गोयल, सतीश गोयल, रामनिवास, मनिदर संधू एडवोकेट, डॉ. सुभाष गिल, ईश्वर शर्मा, राजेंद्र हांडा, रिषी राज, ओमप्रकाश, सुरजीत, डॉ. वीना, गायत्री देशवाल, छवि चौधरी, विमल मेहता, सुनीता मदान, श्रेणी कंसल व सविता शर्मा मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस