संवाद सहयोगी, घरौंडा : शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों की आय दोगुनी करने के लिए तीन कृषि कानून बनाए हैं। ये कानून किसानों के लिए फायदेमंद है। इनका विरोध करने वाले सरकार के साथ चर्चा करें ताकि सब कुछ स्पष्ट हो सके। सरकार इस बिल के फायदे बता रही है और दूसरे लोग नुकसान बता रहे हैं। अब यह किसानों को तय करना चाहिए कि उनके दूरगामी हित में क्या है?

शिक्षा मंत्री रविवार को कैमला गांव में आयोजित किसान महापंचायत के आरंभिक सत्र में विचार रख रहे थे। उन्होंने कहा कि जिस किसान को फसल का भाव एमएसपी से कम मिलता है तो वह किसी भी मंडी में फसल बेच सकता है। मंडी समाप्त नहीं होंगी। ऐसा भ्रम फैलाने वाले डिबेट करें। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ ने कहा कि यूनियन व विपक्ष अपने कागज लेकर आए कि उनके राज में किसने एमएसपी बढ़ाया और किसने नहीं ? राजस्थान और पंजाब में कांग्रेस सरकार है। वहां क्यों नहीं गन्ने का मूल्य 350 रुपये क्विंटल किया जाता? हरियाणा में किसान को प्रति एकड़ 12 हजार रुपये मुआवजा मिलता है, जबकि कांग्रेसशासित राज्यों में आठ हजार रुपये प्रति एकड़। किसानों को प्रधानमंत्री ने छह हजार रुपये प्रतिवर्ष देने का निर्णय लिया। कृषि कानून 2001 से बनना शुरू हुआ था, परंतु 19 साल से कोई सरकार इसको बनाने की हिम्मत नहीं कर सकी। इनका विरोध ऐसे लोग कर रहे है, जिनको जनता सरपंच तक नहीं बनाती।

विधायक महिपाल ढांडा ने कहा कि कृषि कानून किसान हितैषी हैं। कुछ लोग इन पर राजनीति कर रहे है, ऐसे लोगों से सचेत रहने की जरूरत है। विधायक रामकुमार कश्यप ने कहा कि किसान सरकार पर विश्वास करें। पूर्व मंत्री कृष्ण लाल पंवार ने कहा कि सरकार किसानों की आय दोगुनी कर रही है।

पूर्व मंत्री कर्णदेव कांबोज ने कहा कि किसानों की आजादी के लिए तीन कानून लाए गए हैं। पिछड़ा वर्ग की चेयरपर्सन निर्मला बैरागी, ओबीसी मोर्चा के अध्यक्ष मदन लाल चौहान व पूर्व विधायक बख्शीश सिंह विर्क ने भी विचार रखे। भाजपा जिलाध्यक्ष योगेंद्र राणा ने कहा कि वह किसान का बेटे हैं। इन कानूनों से किसान की आय दोगुनी होगी और किसान को फसल अपने रेट पर बेचने की आजादी मिलेगी।

ये रहे उपस्थित

सांसद संजय भाटिया, खेल मंत्री संदीप सिंह, घरौंडा के विधायक हरविन्द्र कल्याण, मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि संजय भटला, स्वच्छ भारत मिशन के उपाध्यक्ष सुभाष चंद्र, केश कला एवं कौशल विकास बोर्ड के उपाध्यक्ष यशपाल ठाकुर, पूर्व विधायक भगवानदास कबीरपंथी, रमेश कश्यप, मेयर रेणुबाला गुप्ता, प्रदेश महामंत्री एडवोकेट वेदपाल, जिला प्रभारी रामेश्वर चौहान, जिला महामंत्री राजबीर शर्मा, भाजपा नेता अशोक सुखीजा, जगमोहन आनंद, शमशेर सिंह नैन, ईलम सिंह, जयपाल शर्मा, एडवोकेट विरेन्द्र ठाकुर, रमेश वर्मा, गांव के सरपंच सुनील कुमार।

Edited By: Jagran