जागरण संवाददाता, करनाल :

हत्या के एक मामले में शक के आधार पर संदिग्ध व्यक्ति की तलाश में निगदू क्षेत्र के गांव डोड कारसा में छापामारी करने पहुंची पुलिस टीम पर हमला कर दिया गया। पुलिस टीम जैसे ही हत्या के मामले में संदिग्ध व्यक्ति की तलाश के लिए एक घर में दाखिल हुई तो उस पर ईंटों से हमला कर दिया गया। इसके साथ ही एक पुलिस कर्मचारी की वर्दी फाड़ दी गई। इसके साथ ही संदिग्ध व्यक्ति को भी मौके से फरार कर दिया गया। निगदू पुलिस थाने में हमले के तीन आरोपितों पर मामला दर्ज कर लिया गया। पुलिस ने आरोपितों की तलाश में भी जुट चुकी है।

कैथल की सीआइए टू के एएसआइ दलशेर सिंह ने पुलिस को दी शिकायत में कहा कि पुंडरी थाने क्षेत्र में दर्ज एक मामले में वह शक के आधार पर जांबा गांव निवासी नफे सिंह की तलाश में थे। इसी बीच उन्हें सूचना मिली कि नफे सिंह डोड कारसा गांव में अपने रिश्वतेदार सुभाष के घर में छिपा हुआ है। इस सूचना के बाद वह कर्मचारी कवलजीत, सिपाही निर्मल व चालक जयवीर के साथ डोड कारसा गांव के लिए रवाना हो गए। वह टीम के साथ गांव में सुभाष के घर पहुंचे। घर का दरवाजा सुभाष ने खोला और मैंने भी अपना परिचय दिया। इसके बाद घर के आंगन में खड़ी स्कूटी के बारे में पूछताछ की तो बताया कि स्कूटी रिश्तेदार नफे सिंह की है। इसी बीच में छत से ईंटें फेंकी जाने लगी। वह कुछ समझ पाते, इससे पहले ही सुभाष ने मेरी वर्दी का कॉलर पकड़ लिया। छत से एक महिला की आवाज आई कि नफे सिंह घर से भाग जा। सुभाष ने मेरी वर्दी फाड़ी दी। राजकुमार व उसकी पत्नी ने पुलिस पार्टी पर हमला किया। किसी तरह से टीम ने अपनी जान बचाई। इस बीच में नफे सिंह भी मौके से फरार हो गया था।

निगदू पुलिस थाने में एएसआइ दलशेर सिंह की शिकायत पर सुभाष, राजकुमार व उसकी पत्नी के खिलाफ सरकारी कार्य में बाधा डालने व मारपीट करने का मामला दर्ज कर लिया। निगदू पुलिस का कहना है कि इस मामले में जल्द ही आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

Edited By: Jagran