जागरण संवाददाता, करनाल : औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग हरियाणा के अतिरिक्त मुख्य सचिव देवेंद्र ¨सह ने कहा कि युवाओं को रोजगार से जोड़ने के लिए सभी सरकारी विभागों तथा निजी औद्योगिक संस्थानों में अधिक से अधिक आइटीआइ से उत्तीर्ण विद्यार्थियों को अप्रैंटिसशिप से जोड़ा जाए ताकि इन विद्यार्थियों में शिक्षा के बाद कुशलता को बढ़ावा मिल सके और वे भविष्य में आत्मनिर्भर बन सकें।

एसीएस शुक्रवार को लघु सचिवालय के सभागार में करनाल, पानीपत और कैथल जिलों के आइटआइ प्रधानाचार्यो और विभाग के उच्च अधिकारियों की बैठक को संबोधित कर रहे थे। एसीएस ने ड्यूल ट्रे¨नग सिस्टम पर भी बल दिया।

इस दौरान तीनों जिलों के अधिकारियों व प्रधानाचार्यो से पिछले 3 महीनों में किए गए कार्यों की समीक्षा की।

बैठक में तीनों जिलों के 23 आइटीआइ प्रधानाचार्य के साथ अतिरिक्त निदेशक आरपी श्योकंद, संयुक्त निदेशक राजपाल यादव, उपनिदेशक संजीव शर्मा, आइटीआइ करनाल के प्रधानाचार्य बलदेव सगवाल, वर्ग अनुदेशक जस¨वद्र संधू मौजूद थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप