जागरण संवाददाता, करनाल : दिल्ली की एक निजी कंपनी के कर्मी से 15 लाख रुपये ऐंठने के आरोपित पुलिस कर्मियों का एक दिन का रिमांड खत्म होने पर उन्हें वीरवार को फिर अदालत में पेश किया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। रिमांड के दौरान आरोपितों से पुलिस ने घटना के दौरान प्रयोग की गई बाइक व मोबाइल बरामद किए। बता दें कि लोटस ग्रुप ऑफ कंपनीज का कर्मी रत्न गुप्ता कंपनी के पानीपत व यमुनानगर में 24 लाख रुपये की रकम देने गए थे। दोनों जगहों ही वह रकम नहीं दे पाए तो किराए की टैक्सी में वह वापस दिल्ली जाने लगा तो बलड़ी बाइपास पर उसे सदर थाने में तैनात एसए जोगिद्र सिह व रामनगर थाने के छोटे मुंशी विक्रम ने रोक लिया। उन्होंने कानूनी कार्रवाई का डर दिखा उससे 15 लाख रुपये ऐंठ लिए तो उसे छोड़ दिया। बाद में कंपनी के सीनियर अकाउटेंट अतुल शर्मा की शिकायत पर पुलिस ने दोनों आरोपितों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया था तो उन्हें सस्पेंड भी किया गया। डीएसपी वीरेंद्र सिंह सैनी ने बताया कि आरोपितों से रिमांड के दौरान बाइक व मोबाइल बरामद किए है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप