जागरण संवाददाता, करनाल :

जिले के विभिन्न स्कूलों के बच्चे मेकर्स बॉक्स लैब का प्रतिभा निखारने के लिए उपयोग कर सकेंगे। सभी बच्चों में कुछ नया करने की प्रतिभा होती है। ऐसे बच्चों का मार्गदर्शन करने की जरूरत है तभी वे अपने क्षेत्र में निर्धारित लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर सकते हैं। यह बाते अंतरिक्ष परी कल्पना चावला के पिता बीएल चावला ने माता प्रकाश कौर दिव्यांग परिसर में जिला प्रशासन द्वारा तैयार मैकर्स बॉक्स लैब इनोवेशन के उद्घाटन के बाद बच्चों को संबोधित करते हुए कही। बीएल चावला ने कहा कि उन्हें हर बच्चे में कल्पना चावला दिखती है। सभी बच्चे प्रतिभाओं से भरे हैं। वह अपने-अपने विषयों के अनुसार रुचि से अध्ययन करते हुए एक नया इतिहास रचे। जिस प्रकार कल्पना चावला ने रचा है। अंतरिक्ष परी कल्पना चावला को याद करते हुए उन्होंने कहा कि कल्पना ने अंतरिक्षयान क्रैश होने से लगभग 28 मिनट पहले चंडीगढ़ यूनीवर्सिटी में एक मेल भेजी थी जिसमें कल्पना ने अपने अंतरिक्ष के अनुभव स्टाफ व सहयोगी रहे लोगों के साथ साझा किए थे। उन्होंने यह भी कहा था कि यूएसए विश्व के किसी भी देश के विद्यार्थी के लिए अच्छी जगह है और वहां के लोग रचनात्मक दृष्टिकोण के विद्यार्थियों को पूरा मान-सम्मान देते हैं। बीएल चावला ने मैकर्स लैब, लाइब्रेरी, ऑडियो-वीडियो रूम व टूल किटों का भी अवलोकन किया। उन्होंने डीसी डॉ. जे गणेशन सहित सभी अधिकारियों का इस कार्य के लिए आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर संतोष अत्रेजा, संगीता गणेशन, एसडीएम योगेश कुमार, जिला बाल कल्याण अधिकारी सर्बजीत ¨सह सीबिया, सीजीसी से प्रमोद गुप्ता, संदीप लाठर, डीके जैन, रोहित धवन, अंजू धवन व अंजू शर्मा मौजूद रही।

बॉक्स

लैब बच्चों के लिए बेहतरीन : डीसी

डीसी डॉ. जे गणेशन ने कहा कि मैकर्स बॉक्स लैब बच्चों के लिए बहुत ही बेहतरीन साबित होगी। इसमें जिले के स्कूलों के बच्चे 20-25 के समूह में समय लेकर कुछ नया सीख सकते हैं। बच्चों को रुचि अनुसार सिखाने के लिए मैकर्स बॉक्स द्वारा स्टाफ की व्यवस्था की गई है।