जागरण संवाददाता, करनाल :

हरियाणा बोर्ड का 10वीं कक्षा का परीक्षा परिणाम सोमवार को जारी हुआ। जिले का ओवरआल परिणाम 43.66 प्रतिशत ही रहा है। इस असंतोषजनक परिणाम ने इस बार भी बच्चों और अभिभावकों को निराश किया है। दोपहर बाद जारी हुए परिणाम से ज्यादातर बच्चों के चेहरे लटक गए। वहीं जिन्होंने अच्छा स्कोर किया है, उनके घर और स्कूलों में खुशी का माहौल दिखाई दिया। बोर्ड द्वारा जारी परीक्षा परिणाम की सूची में करनाल का नाम 18वें नंबर है। जिले के कुल 19604 बच्चों ने परीक्षा दी थी। इनमें से महज 8560 बच्चे ही पास हो पाए हैं। जबकि 18 मई को जारी हुआ कक्षा 12वीं का परीक्षा परिणाम कक्षा 10वीं के परिणाम से कहीं बेहतर रहा। कक्षा 12वीं में 55.59 प्रतिशत बच्चे पास हुए थे।

----------------------

पिछली बार से महज 2.31 प्रतिशत ही बढ़ा परिणाम

जिले का 10वीं कक्षा का परीक्षा परिणाम गत वर्ष 41.35 फीसद था। सरकारी स्कूलों में सुधार के लगातार प्रयास के बाद बढ़कर 43.66 प्रतिशत हुआ है। यानि पिछले वर्ष के मुकाबले महज 2.31 प्रतिशत ही परिणाम में सुधार आया है। वहीं अगर वर्ष 2016 के परीक्षा परिणाम पर नजर डाले, तो यह अब भी 8 प्रतिशत तक कम हैं। क्योंकि वर्ष 2016 में 51.49 प्रतिशत जिले का परीक्षा परिणाम रहा था।

-------------------

बेटों को पीछे छोड़ बेटियों ने मारी बाजी

बेटियां हर क्षेत्र में आगे हैं। कक्षा 12वीं के बाद अब 10वीं के परीक्षा परिणाम में जिले को आगे बढ़ाने में बेटियों ने ही प्रयास किया है। 10वीं बोर्ड परीक्षा में 9395 बेटियों ने हिस्सा लिया था। इनमें से 4459 यानि 47.46 प्रतिशत बेटियां पास हुई है। वहीं 10209 में से महज 4101 यानि 40.17 प्रतिशत बेटे पास हुए हैं। जबकि गत वर्ष बेटियों का पा¨सग आंकड़ा 46.32 प्रतिशत था।

------------------

बेटे भी बढ़ रहे सुधार की ओर, 3.12 प्रतिशत बढ़ा रिजल्ट

करनाल जिले में बेटे भी 10वीं कक्षा के परीक्षा परिणाम सुधार करने के लिए प्रयास कर रहे हैं। बेटों का पा¨सग ग्राफ पहले से 3.12 फीसद बढ़ा है। आंकड़ों पर नजर डाले तो इस बार 10209 में 4101 यानि 40.17 प्रतिशत बच्चे पास हुए हैं। वहीं गत वर्ष कुल 9257 लड़कों में से 3430 यानि 37.05 प्रतिशत बच्चे पास हुए थे।

----------------

11 हजार बच्चों को हाथ लगी निराशा

सोमवार को बाद दोपहर जारी हुए 10वीं क्लास के रिजल्ट में जिले के 11044 स्टूडेंट्स को निराशा हाथ लगी है। इनमें अधिकतर बच्चे एक से ज्यादा सब्जेक्ट में फेल हैं। यानि शिक्षा में सुधार होने की अभी बहुत जरूरत है।

------------------

उत्सुक बच्चों के चेहरों पर दिखाई दिए ¨चता के बादल

कक्षा 12वीं का रिजल्ट 18 मई को जारी हुआ, इसी दिन से 21 मई को 10वीं कक्षा के रिजल्ट जारी होने की डेट भी विभाग की साइट पर चल रही थी। वहीं बच्चों में भी रिजल्ट देखने की काफी उत्सुकता थी। ऐसे में सुबह से ही बच्चे व अभिभावक विभाग की साइट पर टकटकी लगाए रखे। दोपहर बाद जारी हुए खराब रिजल्ट से ज्यादातर बच्चों के चेहरों पर ¨चता के बाद दिखाई दिए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप