डॉ. राजिद्र छाबड़ा, कलायत : विधानसभा क्षेत्र कलायत में पहली बार भाजपा की टिकट पर जीत हासिल कर कमलेश ढांडा ने जीत के बाद जश्न मनाया। इसके बाद मतगणना केंद्र से कलायत हलके तक जीत का जुलुस निकाला। इस क्षेत्र के इतिहास में दूसरी मर्तबा महिला को हरियाणा विधानसभा में जाने का अवसर मिला। इससे पहले 2005 में गीता भुक्कल ने कांग्रेस की टिकट पर चुनाव जीता था। 1980 में भाजपा गठन के बाद केवल 1996 में हविपा-भाजपा गठबंधन से रामभज लोधर विजयी हुए थे। बिना किसी गठबंधन के कलायत में भाजपा के सिर पर जीत का ताज सजाने की सूत्रधार कमलेश ढांडा बनी है। इस विधानसभा क्षेत्र से 2019 लोकसभा चुनाव में भाजपा को 36480 की लीड मिली थी, जिसका फायदा कमलेश को इस चुनाव में मिला। पूर्व मंत्री स्व. नरसिंह ढांडा की पत्नी कमलेश ढांडा तमाम विपरित परिस्थितियों से गुजरते हुए बांगर की धरती पर कमल को गुलजार करने में सफल रही। चुनाव में प्रमुख चुनाव प्रचारक तूषार ढांडा, भाजपा किसान मोर्चा जिला अध्यक्ष अजीत चहल, नगर पालिका चेयरपर्सन प्रतिनिधि सलिद्र राणा, वाइस चेयरमैन प्रतिनिधि डॉ. बैशाखी राम, मार्केट कमेटी वाइस चेयरमैन राकेश कांसल ने इस जीत का श्रेय हलके की जनता को दिया।

बाक्स-

मुख्यमंत्री की चौधर से जुड़ा है कलायत का राजनैतिक इतिहास:

देश की आजादी के बाद वर्ष 1955 में बाबू बृषभान पेप्सु राज्य के मुख्यमंत्री बने। इस दौरान वे कलायत विधानसभा से विधायक थे। वे पंजाब राज्य के मूनक गांव से ताल्लुक रखते थे। पंजाब में पेप्सू के विलय के बाद नवंबर 1956 में पंजाब में मंत्री का पदभार इनके कंधों पर रहा। 1962 और 1967 में पंजाब में वह फिर से मंत्री बने। सन 1956 में पेप्सू को पंजाब में मिला दिया गया। उपरांत 1966 में हरियाणा गठन के बाद 1967 में आजाद उम्मीदवार माडू राम,1968 में भगतू राम कांग्रेस, 1972 भगत राम एनसीओ,1977 में प्रीत सिंह राठी जेएनपी, 1982 में जोगी राम लोकदल, 1987 में बनारसी दास लोकदल, 1991 भरथ सिंह वाल्मीकि जनपा पार्टी,1996 में रामभज लोधर हविपा, 2000 में दीना राम इनेलो, 2005 में गीता भुक्कल कांग्रेस, 2009 में रामपाल माजरा इनेलो व 2014 जयप्रकाश आजाद बने थे। बाक्स-

कलायत में भाजपा ने दी करीब 800 करोड़ की सौगातें:

कलायत नव निवरचित विधायक कमलेश ढांडा ने बताया कि वर्ष 2014 में प्रदेश की बागडोर संभालने से लेकर फरवरी 2019 तक मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कलायत विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न विकास कार्यो के लिए करोड़ों रुपये की सौगात दी। इस बड़े बजट से कलायत हलका हर क्षेत्र में एक नए स्वरूप के साथ उभर रहा है। विकास की इस श्रृंखला से उप मंडल की पहचान सही मायने में कलायत को मिल रही है। इससे पहले लोग उप मंडल का दजर मिलने के बाद भी असुविधाओं को झेल रहे थे। पांच साल हलके में हुए विकास कार्यो को लेकर भी जनता ने भाजपा की नीतियों पर मोहर लगाने का काम किया।

------------

Posted By: Jagran

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस