संवाद सहयोगी, कलायत: शहर में बिगड़ी पानी निकासी समस्या दिन प्रतिदिन विकराल रूप ले रही है। निरंतर बढ़ते जल स्तर को लेकर शिष्टमंडल ने एसडीएम कार्यालय में निकासी की फरियाद लगाई। एसडीएम रीडर अनिल धीमान को वार्ड छह, सात व अन्य वार्डो से लोगों द्वारा सौंपे ज्ञापन में जलभराव के कारण पैदा हुए संकटों से रूबरू करवाया गया। शिष्टमंडल में शामिल कलायत नगर पालिका पूर्व चेयरपर्सन प्रतिनिधि सलिद्र प्रताप राणा, तेजपाल सिंह, सोमपाल सिंह, मोहित सन्नी राणा, सुनील कुमार, मयंक राणा, गौरव, राजेश कुमार, प्रदीप सिंह, राहुल, सुनील, हैप्पी, संजीव कुमार, जसविद्र राणा, रमेश राणा, गोपाल, शमशेर सिंह, सुखदेव, राजबीर सिंह ने बताया कि शहर के निकासी नाले अवरुद्ध हैं।

डीसी ने अधिकारियों को बाढ़ के पुख्ता प्रबंध करने के निर्देश दिए थे, लेकिन रिपेयर और सफाई न होने के कारण शहर की पानी निकासी नहीं हो पा रही। नेशनल हाईवे, रेलवे रोड, श्री कपिल मुनि धाम, सजूमा रोड, अनाज मंडी और नगर के विभिन्न प्रभावित हिस्सों में नाले बदहाल स्थिति में हैं। खुद एसडीएम कार्यालय के आसपास भी निकासी ठप है। यही हालात सीवरेज प्रणाली के हैं। स्थानीय प्रशासन के पास निकासी के लिए जरूरत के अनुसार संसाधन न होने के कारण शहर के लोगों ने अपने स्तर पर चंदा एकत्रित कर निकासी के उपकरण खरीदने का निर्णय लिया है ताकि फसलों, घरों, दुकानों, गलियों और सड़कों पर जल भराव को काबू किया जा सके।

जल भराव में डूबा फिरनी मार्ग और खेल स्टेडियम

कलायत में पानी निकासी न होने के कारण शहर को नेशनल हाईवे से जोड़ने वाले फिरनी मार्ग का बड़ा हिस्सा और खेल स्टेडियम जलमग्न है। अधर में फिरनी निर्माण का कार्य लटकने के कारण एक बड़े आवासीय क्षेत्र में हालात बदतर हो गए हैं। कृषि क्षेत्र में भी पानी तबाही मचा रहा है। इससे लोगों की नींद उड़ी है। इसके चलते लोग अपने स्तर पर पैसे एकत्रित करके निकासी की व्यवस्था बनाने की कवायद में लोग लगे हैं।

अब 40 फीट चौड़े मार्ग की दीवार गिरी

कलायत श्री कपिल मुनि राजकीय महिला कालेज परिसर में जमा गंदे पानी और मुख्य द्वार पर नगर पालिका द्वारा कूड़ा-कर्कट फेंकने से छात्राएं परेशान हैं। कालेज की निर्माणाधीन दीवार कई दिन पहले ढह गई थी। अब कालेज को बस स्टैंड से जोड़ने वाले मार्ग पर नपा द्वारा कचरा फेंके जाने से 40 फीट चौड़े निर्माणाधीन मार्ग की दीवारी भी गिर गई। इसको लेकर लोगों में प्रशासन के खिलाफ भारी रोष है।

Edited By: Jagran