जागरण संवाददाता, कैथल : गन्ने का भुगतान न होने से गुस्साए भारतीय किसान संघ के सदस्यों ने लघु सचिवालय में प्रदर्शन किया। अध्यक्षता जिला अध्यक्ष सतीश कुमार ग्योंग ने की। प्रदर्शन करने के बाद लघु सचिवालय में डीसी प्रदीप दहिया को सीएम के नाम ज्ञापन सौंपा। किसानों ने कहा कि सरकार किसानों के साथ अन्याय कर रही है। पहले तो किसानों को मंडियों में अपनी फसल बेचने के लिए भटकना पड़ता है और उसके बाद समय पर किसानों की फसल का भुगतान नहीं होता है। किसान बार- बार चक्कर काटकर थक जाते हैं। सहकारी चीनी मिलों में किसानों को गन्ने का भुगतान समय पर नहीं मिलता है। मिल द्वारा गन्ने का भुगतान रोक दिए जाने से किसानों को अपनी आगामी फसलों के लिए दवाइयां, खाद और अन्य कृषि योग्य पदार्थ खरीदने के लिए कर्ज उठाना पड़ रहा है। किसानों को अपने पैसों का भुगतान लेने के लिए दर-दर की ठोकरें खानी पड़ रही हैं। उन्होंने कहा कि शुगर मिलों के पास किसानों का करीब 418 करोड़ रुपये का बकाया भुगतान पड़ा हुआ है। किसानों के खातों में नहीं डाला जा रहा है। उन्होंने मुख्यमंत्री से किसानों के गन्ने का बकाया पड़े भुगतान को जल्द दिलवाए जाने की मांग की। किसानों ने कहा कि पहले भी भुगतान संबंधित समस्या को लेकर प्रशासन से सरकार के मंत्रियों को अवगत करवा चुके हैं, लेकिन अभी तक गन्ने का भुगतान नहीं किया गया है। भुगतान न होने के कारण किसानों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इस मौके पर गुलतान नैन, रणदीप आर्य रामकुमार, हुक्म सिंह, शेर सिंह, रामनिवास, राजेश, रणधीर, अजीत मौजूद थे।

Edited By: Jagran