जागरण संवाददाता, कैथल :एडीसी राहुल हुड्डा ने लघु सचिवालय में जिला प्रशासन के उच्चाधिकारियों, पुलिस विभाग, कृषि एवं किसान कल्याण विभाग, राजस्व विभाग के संबंधित अधिकारियों की बैठक ली। बैठक में पर्यावरण संरक्षण को लेकर जिला किसानों की ओर से पराली जलाने पर सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए गए।

एडीसी ने कहा कि जिला में धान की पराली की निगरानी के लिए गठित सभी टीमें गंभीरता से अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए निरंतर निगरानी करें। अग्निशमन वाहनों को 24 घंटे तैयार रखा जाए ताकि किसी भी ऐसी घटना की सूचना प्राप्त होते ही तुरंत धान की पराली की आग को बुझाया जा सके। उन्होंने कहा कि धान की पराली जलाने वाले किसानों की पहचान करके तुरंत उनके खिलाफ एफआईआर करवाई जाए। जिला प्रशासन की गठित सभी टीमें सतर्क रहते हुए अपनी जिम्मेदारी को निभाएं। सरकार द्वारा धान की पराली में लगी हुई आग की सूचना देने वाले व्यक्ति को एक हजार रुपये का ईनाम दिया जाएगा व सूचना देने वाले व्यक्ति की पहचान भी गुप्त रखी जाएगी। उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में संवेदनशील गांवों के सरपंचों की बैठक आयोजित की जाए व उन्हें धान की पराली न जलाने बारे लोगों को जागरूक करने के लिए प्रेरित किया जाए। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा 5 ग्राम पंचायतों को फसल अवशेष प्रबंधन के लिए निशुल्क कृषि यंत्र उपलब्ध करवाए गए हैं तथा शीघ्र ही अन्य 36 ग्राम पंचायतों को यह कृषि यंत्र उपलब्ध करवा दिए जाएंगे। इस मौके पर एसडीएम कमलप्रीत कौर एवं शशी वसुंधरा, सीटीएम सुरेश राविश, डीएसपी विनोद शंकर, जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी जसविद्र सिंह, पूंडरी की तहसीलदार चेतना चौधरी, कैथल के नायब तहसीलदार ईश्वर सिंह सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे।

-----------------

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप