संवाद सहयोगी, कलायत: ठप सीवरेज प्रणाली कलायत के लोगों का दामन नहीं छोड़ रही है। नगर में निकासी की समस्या न हो। करीब एक दशक पहले नगर को सीवरेज प्रणाली से जोड़ा गया था। लक्ष्य निकासी की बेहतर सहूलियत प्रदान करना रहा, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा। आवासीय क्षेत्रों में दिन-प्रतिदिन निकासी का संकट गहरा रहा है। हालात यह है कि वार्ड दो की सैनी कालोनी में बिना बरसात जलभराव की समस्या खड़ी हो गई है। बदहाल स्थिति को लेकर लोगों ने जन स्वास्थ्य विभाग के खिलाफ नारेबाजी की। बिरमपाल राणा, महीपाल सिंह, गुरमेल, रिसाला, सुलतान सिंह, रामकुमार, देवा, राजेश कुमार, रामरति, शकुंतला, पूनम, कविता का कहना था कि स्वच्छता का मिशन उनकी कालोनी के साथ-साथ नगर के अधिकांश हिस्से में विफल होकर रह गया है। गंदा पानी गलियों और घरों में फैल रहा है। इन परिस्थितियों में लोगों का जीवन नारकीय बन गया है।

घर से बाहर निकलना मुश्किल

सीवरेज लाइन से निकासी होने की बजाए गलियों का गंदा पानी बह रहा है। महिलाओं, बुजुर्गों और बच्चों का घरों से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है। ओवरफ्लो सीवरेज लाइन से न केवल गंदगी का आलम है, बल्कि मकानों के दरकने का सिलसिला भी शुरू हो गया है। इस प्रकार की बिगड़ी स्थिति के बाद भी जन स्वास्थ्य विभाग समस्या का हल नहीं कर पा रहा। लोग निरंतर समस्या की शिकायत पर शिकायत करते हैं और अधिकारी निराकरण के लिए तारीख पर तारीख देते आ रहे हैं। ऐसे में प्रभावितों को समझ नहीं आ रहा कि आखिरकार वे कहां जाएं।

सरकार को शिकायत भेजने का निर्णय: विक्रम राणा

सीवरेज प्रणाली को लेकर हो रहे प्रदर्शन के दौरान मौके पर पहुंचे युवा पार्षद विक्रम राणा ने कहा कि समस्या गंभीर है। इस संदर्भ में वे कई मर्तबा अधिकारियों से संपर्क कर चुके हैं। न जाने क्यों जन स्वास्थ्य विभाग इस विकराल समस्या का हल नहीं खोज पा रहा है। वे इस संदर्भ में प्रदेश मुख्यमंत्री मनोहर लाल, उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला और शीर्ष प्रशासनिक अधिकारियों को शिकायत भेजेंगे।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021