जागरण संवाददाता, कैथल: हरियाणा माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष और भाजपा के जिला प्रभारी कर्ण ¨सह रानोलिया जिम्मेदारी मिलने के बाद पहली बार पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की बैठक लेने पहुंचे। उन्होंने केंद्र व प्रदेश सरकार की योजनाओं के प्रचार को लेकर कार्यकर्ताओं में उत्साह भरने की भरपूर कोशिश की, लेकिन मसला इतना बो¨रग हो जाएगा, यह अंदाजा किसी को नहीं था।

महाराजा अग्रसेन धर्मशाला में जिला कार्यकारिणी बैठक की शुरुआत ही ऊबाऊ हो गई और उसके बाद हुए लंबे भाषणों ने तो वातानुकूलित हॉल में सुस्ती भर दी। कार्यकर्ताओं कुर्सियों पर लंबे पैर पसार सोते नजर आए। उन्हें उठाने और माहौल में ऊर्जा भरने के लिए जिला महामंत्री संजय भारद्वाज ने कई बार भारत माता की जय के नारे भी लगवाए।

बता दें कि जिला कार्यकारिणी में कुल 166 सदस्य हैं, जिनमें पदाधिकारी भी शामिल हैं। इनमें से 162 की हाजिरी रजिस्टर में ली गई। जिला संगठन में 14 पदाधिकारी हैं। इससे पूर्व नवनियुक्त जिला प्रभारी ने पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस में इनकी बैठक ली थी।

इस मौके पर प्रांतीय उपाध्यक्ष धर्मपाल शर्मा, कृषि एवं कल्याण मंत्रालय की सलाहकार काउंसलर के सदस्य धर्मवीर डागर, कलायत नपा चेयरपर्सन रजनी राणा, राजौंद नपा चेयरपर्सन गुड्डी राणा, उपाध्यक्ष शैली मुंजाल, कमलेश ढांडा, लीला राम, राजपाल तंवर भी मौजूद रहे।

बॉक्स

राजनीतिक प्रस्ताव हुआ लंबा

कार्यकारिणी की बैठक में सबसे पहले बालू मंडल के प्रधान एडवोकेट राजेश बिढ़ान ने राजनीतिक प्रस्ताव पढ़ा। यह प्रस्ताव करीब तीन पेज का था। शुरुआत से ही यह कार्यकर्ताओं को ऊबाने लगा। जैसे ही बिढ़ान ने दो पेज पढ़ कर पन्ना पलटा तो मंच संचालन कर रहे महामंत्री रामपाल राणा उठ खड़े हुए। कार्यकर्ताओं ने तालियां बजा दी, लेकिन बिढ़ान ने यह कहकर उन्हें चुप कराया कि अभी और भी है।

बॉक्स

चंदे के दस चेक बाउंस

जिला प्रभारी कर्ण ¨सह रानोलिया ने बैठक में पदाधिकारियों के हाथ खड़े करवाकर पूछा कि उनमें से कौन-कौन पार्टी कार्यालय में सहयोग निधि में योगदान करता है। जिलाध्यक्ष अशोक गुर्जर ने बताया कि कैथल से पार्टी के कोष में सात लाख रुपये भिजवाए गए हैं। साथ ही जिक्र हुआ कि पदाधिकारियों की ओर से पार्टी में आजीवन सहयोग निधि में जमा कराए गए दस चेक बाउंस हो गए हैं।

बॉक्स

प्रभारी ने पकड़ी सुस्ती

जिला प्रभारी कर्ण ¨सह रानोलिया ने कार्यकर्ताओं को 23 सितंबर से शुरू होने वाली आयुष्मान भव योजना के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इसके बाद उन्होंने दो अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक हर मंडल स्तर पर 150 कार्यकर्ताओं को राष्ट्रीय ध्वज के साथ प्रचार यात्रा निकालने के निर्देश दिए। कार्यकर्ताओं की मानसिक उपस्थिति जांचने के लिए उन्होंने एक पदाधिकारी को खड़ा करके पूछा कि बताओ अभी किस योजना के बारे में बताया। पदाधिकारी इस संदर्भ में बता ही नहीं पाया।

बॉक्स

जो नहीं आए स्पष्टीकरण देंगे

प्रभारी ने बैठक में पहुंचे पदाधिकारियों की पदों के अनुसार जिला स्तर से लेकर मंडल स्तर तक हाजिरी ली। जो बैठक में उपस्थित नहीं रहे, उनसे व्यक्तिगत तौर पर फोन करके बैठक में नहीं आने का स्पष्टीकरण जिला महामंत्री लेंगे।

इससे पहले जब कर्ण ¨सह रानोलिया ने अपना भाषण शुरू किया तो कार्यकर्ताओं के आपस में बातचीत करने से वे नाराज हुए। उन्होंने कहा, यह कामकाजी बैठक है। कोई बीच में बात नहीं करेगा। जिसे बात करनी है वह बैठक के बाद बाहर जाकर कर ले। कोई भी सरकार संगठन से चलती है। अनुशासन संगठन के लिए बहुत जरूरी है। उन्होंने पदाधिकारियों को अगली बैठक में राजनीतिक प्रस्ताव की फोटोकापी उपलब्ध कराने और डायरी-पैन लेकर आने के निर्देश दिए।

बॉक्स

पहले वाले लेट आते थे

पीडब्यूडी रेस्ट हाउस में पदाधिकारियों की बैठक में कुछ नेता देरी से पहुंचे। इस पर जिलाध्यक्ष अशोक गुर्जर ने उन्हें अनुशासन का पाठ पढ़ाया। बोले, बैठक का समय दस बजे का था। लेट आने वाले पदाधिकारी गंभीर हो जाएं। इस पर एक ने कहा कि पिछले वाले जिला प्रभारी एक घंटा देरी से आते थे। उनका इंतजार करना पड़ता था। इसलिए वे लेट हुए। जिलाध्यक्ष बोले, अब से निर्धारित समय से पांच मिनट पहले पहुंचना है।

बॉक्स

नहीं पहुंचे विशेष सदस्य

जिला कार्यकारिणी के विशेष आमंत्रित सदस्यों में से चु¨नदा ही बैठक में पहुंचे। इनमें धर्मेंद्र गुप्ता, श्याम लाल वर्मा, सतीश शर्मा, पुरुषोत्तम शर्मा सहित आठ-दस ही शामिल रहे। एक दर्जन से ज्यादा विशेष सदस्य आए ही नहीं। इनमें गुहला विधायक कुलवंत बाजीगर, पूंडरी के विधायक प्रो.दिनेश कौशिक, हरियाणा वन विकास निगम के चेयरमैन अरूण सर्राफ, रविभूषण गर्ग, चुनाव लड़ चुके राव सुरेंद्र ¨सह, रणधीर गोलन, रमेश गुप्ता, रमेश मित्तल, माइलाल सैनी, अमरनाथ भगत, सुखदेव कुंडू आदि शामिल हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस