मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

संवाद सहयोगी, कलायत :

आजादी पर्व की रिहर्सल में कोताही पर नोटिस जारी होने के बाद भी कलायत का जन स्वास्थ्य विभाग अपनी ड्यूटी के प्रति संजीदा नहीं है। रेलवे रोड पर जन स्वास्थ्य विभाग ने करीब एक सप्ताह पहले सीवरेज लाइन बिछाने के लिए करीब 60 फीट लंबा 8 फीट गहरा गड्डा खोदा गया था। विभाग ने आनन-फानन में सीवरेज लाइन तो बिछा दी गई। लेकिन न तो सड़क को चलने के लायक बनाया और ही क्षतिग्रस्त मार्ग पर कोई संकेतक स्थापित करवाया। जिसके कारण रेलवे रोड पर दुकानदारों व राहगिरों को परेशानी हो रही है। मास्टर धर्मपाल जेष्ठ, मोहन सैन, अमित कुमार, अशोक कुमार, काला राम, दीपक कुमार, मुकेश कुमार, राजा राम आदि ने कहा कि एक सप्ताह पूर्व रेलवे रोड पर सीवरेज व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए सड़क को उखाड़कर लगभग 60 फीट लंबा गड्ढे खोदा गया था। सीवरेज लाइन जोडऩे के बाद विभागीय कर्मचारियों द्वारा केवल मिट्टी डालकर गड्ढे को भर दिया गया। सड़क का हिस्सा क्षतिग्रस्त होने के कारण आवागमन पर विपरीत असर पड़ रहा है। मोड़ पर सड़क का इस तरह अव्यवस्थित होना हादसों को न्यौता दे रहा है। हालांकि मुख्यमंत्री मनोहर लाल यह निर्देश दे चुके हैं कि सड़कों को सुरक्षित रूप दिया जाए। बावजूद इसके जन स्वास्थ्य विभाग लंबी तानकर सोया है। चाहिए तो यह था कि इस संदर्भ में लोक निर्माण विभाग से संपर्क साधकर व्यवस्था को दुरुस्त करवाता। साहब लोगों को शायद इस गंभीर मामले की चिता नहीं है।

सड़क दुरुस्त कराने के लिए कराया जा रहा बीटी बिल तैयार: जेई

जन स्वास्थ्य विभाग जेई अजय ढुल ने बताया कि रेलवे रोड पर सीवरेज व्यवस्था जल्द दुरुस्त करने के लिए सड़क को उखाड़ा गया था। सड़क को दुरुस्त करवाने के लिए बीटी बिल तैयार करवाया जा रहा है। सोमवार या मंगलवार को लोक निर्माण विभाग को बीटी बिल सौंपकर सड़क को दुरुस्त करवा दिया जाएगा।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप