जागरण संवाददाता, कैथल :

लघु सचिवालय स्थित सभागार में महिला एवं बाल विकास विभाग की राज्य मंत्री कमलेश ढांडा ने अधिकारियों की बैठक ली। इसमें पार्टी जिलाध्यक्ष अशोक गुर्जर, डीसी डॉ. प्रियंका सोनी, एसपी विरेंद्र विज सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे। उन्होंने अधिकारियों से परिचय लेते हुए सरकार की तरफ से चलाई जा रही विभाग की योजनाओं के बारे में जानकारी ली। इसके बाद राज्यमंत्री ने मंच संभालते हुए कहा कि सरकारी कार्यालयों में कामकाज के लिए आने वाले लोगों की शिकायतों को गंभीरता से लें। विभागों में आउटसोर्सिंग सहित अन्य जो रिक्त पद पड़े हुए है, उनका ब्योरा उन्हें उपलब्ध करवाएं।

क्षेत्र के जिन लोगों ने उन्हें यहां बैठाने का काम किया हैं, उन्हें मान-सम्मान देने की जिम्मेदारी भी उनकी है। उन्होंने कहा कि कलायत हलका पूरी तरह से पिछड़ा हुआ है। इस बार सरकार में प्रतिनिधि इस क्षेत्र को मिला है। इसलिए अधिकारी जिले के साथ-साथ कलायत क्षेत्र का विशेष ध्यान रखें। उन्हें प्रदेश में महिलाओं एवं बच्चों के सम्पूर्ण विकास की जिम्मेवारी सौंपी गई हैं, जिसे वे ईमानदारी पूर्वक निभाएंगी।

राज्यमंत्री ने कहा कि योजनाओं को आम जन तक पहुंचने के लिए किसी भी प्रकार की कोताही न बरतें। जब भी आमजन किसी भी विभागीय काम के लिए फोन करें तो उनसे बात करें। किसी कारण से फोन न उठाने पर मैसेज भेजते हुए फ्री होने पर कॉल करें। उन्होंने अधिकारियों को कहा कि सरकारी कार्यालयों में आने वाले लोगों की शिकायतों को गंभीरता से लें, कामकाज के दौरान आए लोगों की फाइलों में कोई कमी हैं तो उन्हें बताएं, काम को लटकाएं नहीं।

राजनीतिक परिवार से है संबंध, इसलिए हर फिल्ड की जानकारी

राज्यमंत्री ने कहा कि अधिकारी ये मत समझ लेना कि उन्हें कोई जानकारी नहीं है, मैडम तो सिपल हैं, वे राजनीतिक परिवार से संबंध रखती हैं। उनके पति स्व. नरसिंह ढांडा दो बार विधायक रहते हुए दोनों बार मंत्री रहे हैं। कई विभागों का कार्यभार उन्हें देखा है, इसलिए वे हर फिल्ड की जानकारी रखती हैं। उन्हें अपने पति की तरह ईमानदारी व लगन से काम करने की आदत हैं, इसलिए अधिकारी समझ लें कि ड्यूटी के दौरान किसी भी तरह की कोताही सहन नहीं होंगी। उनके विभागीय पीए, बेटा तुषार व भाई जब भी फोन करें तो फोन जरूर रिसीव करें। जायज काम के लिए ही वे कहेंगी। अगर उनके नाम से कोई गलत काम करवाता है तो उसकी जानकारी भी उन्हें दें।

राज्य मंत्री ने कहा कि लोगों की शिकायतों का प्राथमिकता के आधार पर निपटारा किया जाए, ताकि उन्हें बार-बार चक्कर न काटने पड़ें। कोई भी अधिकारी अपने कार्य में कोताही व लापरवाही न बरतें। सरकार की कल्याणकारी नीतियों को गंभीरता से लागू करें। सरकार द्वारा कोताही बरतने वाले अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने कहा कि हलका कलायत व जिला कैथल ही उनका परिवार है तथा वे पूरे प्रदेश की महिलाओं व बच्चों के सम्पूर्ण विकास के लिए हमेशा प्रयासरत रहेंगी। उन्होंने कहा कि आम जनता की सरकार से बहुत अपेक्षाएं होती हैं तथा एक जन कल्याणकारी सरकार का उद्देश्य भी जनता का कल्याण होता है। उन्होंने सभी अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा यह निर्देश दिए गए हैं कि जन कल्याण की नीतियों को लेकर किसी प्रकार की कोताही बर्दाश्त न करें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस