संवाद सहयोगी, कलायत : देवभूमि रेल यात्री अधिकार संघर्ष समिति प्रधान रोहताश धानियां, प्रेस प्रवक्ता सुरेंद्र धानियां, मार्केट कमेटी चेयरमैन राकेश कांसल, रामकुमार नायक, रामदर्शन कौशिक व सतबीर सिंह नायक ने महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री कमलेश ढांडा को ज्ञापन दिया। मांग थी एक्सप्रेस ट्रेन का कलायत में ठहराव करवायया जाए। समिति पदाधिकारियों ने बताया कि कलायत जहां एक धार्मिक क्षेत्र है वहीं इस स्टेशन को अस्तित्व में आए 128 वर्ष से अधिक का समय हो गया। कलायत जहां कुरुक्षेत्र से 70 किलोमीटर एवं जींद से 56 किलोमीटर दूरी पर पड़ा है। इस क्षेत्र से सैकड़ों की संख्या में छात्र रोहतक एवं कुरुक्षेत्र उच्च तालीम हासिल करने के लिए जाते है। इसके अलावा गंभीर रूप से यदि कोई व्यक्ति बीमार हो जाता है उसे भी चंडीगढ़ या फिर रोहतक पीजीआई ले जाना पड़ता है। इन सभी बातों को ध्यान में रखते ही रेलवे विभाग द्वारा 16 सितंबर 2014 से शुरू की गई चंडीगढ़ जयपुर एक्सप्रैस ट्रेन नंबर 19718 व 19717 का कलायत क्षेत्र के लोगों के लिए विशेष महत्व है, लेकिन कलायत में ठहराव न किया जाना न केवल लोगों को कचोट रहा है बल्कि ल सेवा होने के बावजूद इसका लाभ न मिल पाने के कारण परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। क्षेत्र के लोग इंटरसिटी ट्रेन में कलायत से सवार होने से वंचित है। राज्य मंत्री कमलेश ढांडा ने बताया कि उन्हें देव भूमि रेल यात्री अधिकार संघर्ष समिति द्वारा जयपुर-चंढीगढ़ इंटरसिटी ट्रेन का ठहराव करवाने के लिए मांग पत्र सौंपा गया है। संघर्ष समिति के पदाधिकारियों व लोगों को आश्वासन देते राज्य मंत्री ने कहा कि इसके लिए भरपूर प्रयास किया जाएगा ताकि इस स्टेशन से होकर निकलने वाली इस ट्रेन का ठहराव यहां हो जाए। ----------------------

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप