जागरण संवाददाता, कैथल: आर्ट ऑफ लिविग संस्था की ओर से ध्यान शिविर शुरू किया गया। शिविर की शुरुआत दिव्य भजन संध्या के साथ हुई। आचार्या अल्पना मित्तल ने बताया कि वेद विज्ञान महाविद्यापीठ कपिस्थल आश्रम में आयोजित इस शिविर में स्वामी दिव्यतेज के सानिध्य में साधक अनुपम सुदर्शन क्रिया करेंगे। बौद्धिक एवं दार्शनिक वार्तालाप के अतिरिक्त गहरे ध्यान, मौन और विशिष्ट क्रियाओं-प्रक्रियाओं के माध्यम से ²ष्टा भाव में उतरेंगे। आत्मबोध, आत्मदर्शन एवं आत्मसाक्षात्कार की अनुभूति करेंगे। आचार्या कंचन सेठ ने कहा कि समाज के प्रबुद्ध शिक्षित वर्ग का आर्ट ऑफ लिविग परिवार का हिस्सा बनते हुए वैदिक मूल्यों पर आधारित दिव्य समाज निर्माण में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करना आर्ट ऑफ लिविग द्वारा सामाजिक उत्थान के लिए समाज के प्रति निभाए जा रहे उत्तरदायित्व के निर्वहन की ही पुष्टि करता है।

इस मौके पर स्वामी रवींद्र ठाकुर, दीपक सेठ एडवोकेट, भारत खुराना, डॉ.विकास भटनागर, डॉ.सीमा भटनागर, डॉ.सुनीला सीकरी, डॉ.राजेश सीकरी मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस