जागरण संवाददाता, कैथल : आरकेएसडी कॉलेज में महर्षि वाल्मीकि जयंती पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान परिसर में एक बुलेट बाइक की वजह से तनाव की स्थिति पैदा हो गई। बाइक की बैटरी पर खालिस्तानी लिखा था और उसके ऊपर जरनैल ¨सह ¨भडरावाला की फोटो लगाई गई थी। इस कार्यक्रम में खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के राज्य मंत्री कर्णदेव कांबोज मुख्यातिथि थे। कॉलेज परिसर में मोटरसाइकिल खड़ी कर युवक समारोह में शामिल हुआ। समारोह में पहुंचे एडीसी कैप्टन शक्ति ¨सह की जैसे ही नजर बुलेट मोटरसाइकिल पर खालिस्तानी लिखे व जरनैल ¨सह ¨भडरावाला की छपवाई गई फोटो पर पड़ी तो उन्होंने यातायात पुलिस कर्मचारियों को तुरंत कार्रवाई के आदेश दिए। पुलिस ने मोटरसाइकिल को इंपाउंड कर दिया। शहर थाना पुलिस ने मामले में युवक की आइडी लेकर उसके परिजनों व गांव के सरपंच को बुलाया है। पुलिस का कहना है कि अगर युवक की भूमिका संदिग्ध मिली तो उचित कार्रवाई की जाएगी।

आरकेएसडी कॉलेज के सभागार में महर्षि वाल्मीकि जयंती पर जिला स्तरीय समारोह का आयोजन किया गया। मुख्यातिथि राज्य मंत्री कर्णदेवी कांबोज थे। अध्यक्षता उपायुक्त सुनीता वर्मा ने की। इस कार्यक्रम में महर्षि वाल्मीकि जयंती को लेकर आयोजित हुई प्रतियोगिता में विजेता रहे प्रतिभागियों को सम्मानित किया गया। प्रतियोगिता में कलायत के सूरत ¨सह मेमोरियल एजुकेशन ऑफ का छात्र बढ़सिकरी गांव का हरप्रीत ¨सह भी तीसरे स्थान पर रहा था। खाद्य एवं आपूर्ति राज्य मंत्री कर्ण देव कांबोज ने उसे पुरस्कार प्रदान किया।

वह सुबह अपने गांव से बुलेट मोटरसाइकिल पर सवार होकर समारोह में सम्मानित होने के लिए पहुंचा। युवक ने कॉलेज परिसर में अपनी बुलेट मोटरसाइकिल खड़ी की और अंदर चला गया। समारोह में पहुंचे एडीसी ने जब इस बुलेट को देखा तो उन्होंने तुरंत यातायात पुलिस को मोटरसाइकिल को इंपाउंड करने के आदेश दिए। जब उक्त कॉलेज छात्र वापस गांव जाने के लिए बाहर आया तो उसने अपना मोटरसाइकिल वहां नहीं मिला। इस बारे में जब हरप्रीत ¨सह से बात की तो उसने कहा कि वह अभी बात नहीं कर सकता क्योंकि वह ड्राइव कर रहा है।

वर्जन

जांच कर रही पुलिस : एसएचओ

सिटी थाना एसएचओ रमेश चंद्र ने बताया कि बुलेट व युवक की आइडी ले ली है। पुलिस मामले में जांच कर रही है। युवक के परिजनों व गांव के सरपंच को बुलाया है। मामले में गंभीरता से जांच की जाएगी। यदि युवक की भूमिका संदिग्ध मिली तो केस दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

वर्जन

वीआइपी कार्यक्रम में खालिस्तानी लिखी बाइक का होना संवेदनशील विषय है। इसे पुलिस को कहकर इंपाउंड कराया गया है। जांच की जा रही है। जिस युवक की यह बाइक है, वह छात्र है और उसे प्रश्नोत्तरी में तृतीय रहने के लिए राज्यमंत्री कर्ण देव कांबोज ने पुरस्कार दिया है, लेकिन यह अलग विषय है। हमारे यहां बाइक पर खालिस्तानी लिखना गलत है।

- कैप्टन शक्ति ¨सह, एडीसी कैथल।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप