कैथल, जागरण संवाददाता। युवकों को विदेश भेजने के नाम पर उनका अपहरण करके स्वजनों से पैसे ऐंठने वाले एक अंतरराज्जीय गिरोह के पांच सदस्यों को गिरफ्तार किया है। यह मामला हवाला से जुड़ा हुआ मिला है। अपहरण का पैसा हवाला के जरिये ट्रांसफर किया जाता रहा है।

एक युवक को भी मुक्‍त करवाया

सीआइए-वन पुलिस की टीम ने बदमाशों के कब्जे से एक युवक को भी छुड़वाने में सफलता हासिल की है। एसपी मकसूद अहमद ने बताया कि गांव बाकल निवासी अमृत पाल ने पूंडरी थाना में शिकायत दी थी कि उसका भाई विक्रम कनाडा जाना चाहता था। उसके ही गांव के अवतार सिंह से बातचीत के माध्यम से रुद्रपुर निवासी देवेंद्र और रिठौडा यूपी निवासी गुरुदेव सिंह उसके भाई को 28 अक्टूबर को कनाडा के लिए ले गए। उसे कोलकाता लेजाकर बंधक बना लिया। उससे डालर छीन लिए और उसके भाई की उससे वीडियो काल और आडियो काल से बात करवाई।

13 लाख रुपये मांगे थे छोड़ने के लिए

आरोपितों ने उसके भाई को छोड़ने के लिए 13 लाख रुपये मांगे थे। मामले की जांच सीआइए-वन पुलिस को सौंपी गई थी। एएसआइ राजबीर सिंह की टीम ने इस मामले में एक आरोपित रिठौडा कलां जिला मेरठ यूपी निवासी गुरदेव उर्फ देव को गिरफ्तार करके 10 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया था। उसी ने पूरे गिरोह की जानकारी दी और पांच बदमाशों की सूचना दी।

मुंबई पहुंची थी कैथल सीआइए टीम

सीआइए की टीम मुंबई पहुंची और गुरदेव के बताए अनुसार देसाई यानी अब्दुल रहमान करीम कुरैशी का पता चला। पुलिस ने जब उससे संपर्क किया ताे उसने विक्रम को छोड़ने की एवज में 10 लाख रुपये की मांग की। पुलिस ने उसे 10 लाख रुपये ट्रांसफर कर दिए, लेकिन फिर भी विक्रम को नहीं छोड़ा। उसके बाद फिर दो लाख रुपये और मांगे।

जेवली बाजार में रुपये लेने आए थे आरोपित

एसपी ने बताया कि फिर मुंबई के जेवली बाजार में दो लाख रुपये लेने आए तीन आरोपितों को दो लाख रुपये सहित काबू किया गया। उनकी पहचान प्लाट-ए 11 महालक्ष्मी सोसाइटी रोड नंबर तीन कांदिवली मुंबई निवासी शशांक, बी-1 804 गोदरेज हाइट कांदिवली मुंबई निवासी मोईन कुरैशी पुत्र अब्दुल रहमान कुरैशी, 3बी 212 उमेरा पार्क पठान वाडी मलाड ईस्ट मुंबई निवासी समीर काजी के रूप में हुई है।

यूपी का रहने वाला एक आरोपित

एसपी ने बताया कि पुलिस ने प्लानिंग के तहत तय किए गए स्थान पर काबू किए युवकों से पैसे लेने आए दो व्यक्तियों को पकड़ा। पहचान सी-1, 02 फर्स्ट फ्लोर फरेशिया रानी सतीवाल मार्ग मलाड ईस्ट पठान वाडी मुंबई निवासी अब्दुल करीम रहमान कुरैशी और नगला चिकन मथुरा उत्तरप्रदेश निवासी अखलेश कुमार रूप में हुई। जांच में पाया गया कि अब्दुल करीम रहमान ही देसाई है। पुलिस ने देसाई से कोलकाता में उसके गैंग के साथियों को संपर्क करवाया और विक्रम को छोड़ने को कहा। अब्दुल करीम रहमान के इशारे पर गैंग के सदस्यों ने विक्रम को कोलकाता एयरपोर्ट से दिल्ली के लिए बैठा दिया। सीआइए-वन पुलिस ने दिल्ली एयरपोर्ट से विक्रम को रिसीव कर लिया। पकड़े गए पांचों आरोपित शशांक, मोईन कुरैशी, समीर काजी, अब्दुल करीम रहमान और अखलेश कुमार को मंगलवार को अदालत में पेश किया जाएगा।

Edited By: Anurag Shukla

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट