जागरण संवाददाता, कैथल: धान अवशेषों की गांठें बनाने वाले किसानों के खाते में विभाग ने एक हजार रुपये प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि जारी कर दी है। पहली किस्त में 37 हजार रुपये विभाग ने जारी किए हैं। इससे 4 हजार 966 किसानों को लाभ मिला हैं। वहीं अन्य किसानों के खाते में भी जल्दी राशि जारी होगी। विभाग के आंकड़ों के अनुसार तीन करोड़ 86 लाख 19 हजार 60 रुपये प्रोत्साहन राशि विभाग किसानों को देगा।

ये है स्कीम-

कृषि विभाग ने 2020 में धान अवशेषों की बेलर से गांठ व बेल बनवाने वाले किसानों के लिए एक हजार रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से प्रोत्साहन राशि देने का ऐलान किया था। उसके बाद किसानों का विभागीय पोर्टल डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू एग्री हरियाणा, सीआरएम डॉट कॉम, डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू व मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पर रजिस्ट्रेशन करवाया गया।इसमें किसान के एरिया बेची पराली का बिल व एकड़ की जानकारी एकत्रित की। उसके बाद गांव स्तर पर कमेटी बनाकर व अधिकारियों द्वारा इन कागजों का भौतिक सत्यापन किया गया है। पंचायत के द्वारा यदि गांठ को बेचा गया है, तो सेल बिल प्राप्त किए है। इस कमेटी की रिपोर्ट पर राशि डाली जा रही हैं।

जिले में तीन करोड़ 86 लाख की प्रोत्साहन राशि होगी जारी: कर्मचंद

कृषि उपनिदेशक डा.कर्मचंद ने बताया कि पराली में आग पर रोक लगाने के लिए सरकार ने किसानों को प्रोत्साहन राशि देनी शुरू की है। पंचायतों को भी प्रोत्साहन राशि दी गई हैं। विभाग की तरफ से जिले में तीन करोड़ 86 लाख 19 हजार 60 रुपये प्रोत्साहन राशि जारी होगी। किसानों के खातों में पैसे डाले जा रहे है। फरवरी के महीने तक सभी किसानों के खाते में राशि डाल दी जाएगी।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021