जागरण संवाददाता, कैथल : प्रधानमंत्री कृषि सिचाई योजना के तहत गांव बरसाना में प्रति बूंद-अधिक फसल विषय पर जागरूकता शिविर हुआ। अध्यक्षता करते हुए जिला उद्यान अधिकारी डॉ. अंशुल आनंद ने बताया कि भूमिगत जल स्तर गिरता जा रहा है इसलिए जल संरक्षण करने के लिए हमें जागरूक होने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का किसानों को लाभ उठाना चाहिए। प्रति बूंद-अधिक फसल योजना भी जल संरक्षण के लिए काफी बेहतर है। टपका सिचाई से पानी की काफी बचत होगी और फसल भी अधिक होगी। उद्यान विकास अधिकारी डॉ. निखिलेश सांगवान ने किसानों को टपका व फव्वारा सिचाई के लाभ बताते हुए कहा कि सूक्ष्म सिचाई के तहत लघु सीमांत व बड़े किसानों को 60 से 85 प्रतिशत सब्सिडी विभाग द्वारा दी जा रही है। भूमिगत जलस्तर लगातार गिरता जा रहा है, ऐसे में भविष्य के लिए पानी को बचाना जरूरी है। किसानों को वैज्ञानिक तरीके से खेती करनी पड़ेगी। इस विधि से किसान का खर्चा भी कम होता है।

इस मौके पर दलीप अहलावत ने सूक्ष्म सिचाई स्थापित करने व आने वाले खर्चे के बारे में जानकारी दी। इस विधि का लाभ किसान ऑनलाइन आवेदन करके भी प्राप्त कर सकते हैं। इस मौके पर सतपाल, कर्मबीर, शमशेर, फूल सिंह मौजूद थे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस