जागरण संवाददाता, कैथल :

नई अनाज मंडी में धान की आवक ने जोर पकड़ लिया है। खेतों में 1509 धान की कटाई के बाद चार दिनों में अब तक आठ हजार के करीब बोरियां मंडी में पहुंच चुकी है। 2500 से 2600 रुपये भाव प्रति क्विंटल किसानों को मिल रही है। धान की खरीदारी अभी राइस मिलरों की तरफ से नहीं हुई है, आढ़ती अपने स्तर भी धान को खरीद रहे हैं। वहीं मंडी में धान का सीजन तो शुरू हो चुका है, लेकिन मूलभूत सुविधाओं की कमी के चलते किसान, मजदूर व आढ़तियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मंडी में सबसे बड़ी समस्या बिजली की की है। इस कारण रात के समय अंधेरा छाया जाता है।

इसके साथ ही पेयजल, पानी की निकासी और नप की ओर से सीवरेज लाइन के तोड़ी गई सड़क किसानों व आढ़तियों के लिए परेशानी का सबब बनी हैं। एक महीने तक मंडी में 1509 धान की किस्म की ही आवक होगी। एक अक्टूबर से सरकार की ओर से पीआर धान की खरीद शुरू हो जाएगी।

मंडी में नहीं मिल रही सुविधाएं :

नई अनाज मंडी में धान की ढेरी लेकर पहुंच किसान महेंद्र सिंह ने बताया कि मंडी में अभी तक मार्केट प्रशासन की ओर से किसानों के लिए कोई उचित प्रबंध नहीं किए गए हैं। वह मंडी में रात के समय धान लेकर पहुंचा था, लेकिन बिजली नहीं होने से अंधेरा छाया रहा, जिस कारण काफी परेशानी आई। यदि सीजन के पूरी तरह से शुरू होने के बाद भी ऐसी समस्या आई तो किसानों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। इसके साथ ही यहां पर पीने के पानी की समस्या भी है। यहां पर टंकियों की कोई सफाई नहीं की गई है।

सड़क के तोड़ने के बाद आ रही दिक्कत

किसान इंद्र सिंह ने बताया कि जींद रोड की ओर से मंडी में आने वाले रास्ते को सीवरेज के लिए दो किलोमीटर से अधिक सड़क को तोड़ा गया है, जिसे काफी लंबा समय हो चुका है। इस दौरान यहां पर माल से लदी हुई ट्रालियों के पलटने का भय अधिक हो जाएगा। मार्केट कमेटी नप के माध्यम से इस सड़क का जल्द निर्माण करवाया जाए, ताकि सीजन के दौरान कोई बड़ा हादसा न हो सके। मंडी के शुरूआती दौर में ही मार्केट कमेटी के अधिकारियों को मंडी की सभी समस्याओं पर ध्यान देना चाहिए।

समस्याओं पर ध्यान दें मार्केट

कमेटी अधिकारी

नई अनाज मंडी आढ़ती एसोसिएशन के प्रधान कृष्ण मित्तल ने बताया कि मंडी में धान का सीजन शुरू होने के बावजूद समस्याओं का कोई समाधान नहीं करवाया जा रहा है। सीजन के पूरी तरह से शुरू होने के बाद यहां पर एक मोटरसाइकिल निकालने की जगह नहीं बचती। इसके चलते कुछ आढ़ती इस मंडी के बजाय जींद रोड पर स्थित अतिरिक्त मंडी में अपना माल डालते हैं, लेकिन वहां पर मार्केट कमेटी की ओर से हैफेड व डीएफएसई का गेहूं रखवाया गया है, जो नहीं उठाया जा रहा है। मार्केट कमेटी को जल्द ही वहां से गेंहू को उठवाना चाहिए।

मंडी में समस्याओं को जल्द

कराया जाएगा समाधान :

मार्केट कमेटी के चेयरमैन राजपाल तंवर ने बताया कि अभी तो मंडी में धान की शुरूआत हुई है। सभी समस्याओं को लेकर अधिकारियों के साथ मंडी का दौरा किया जाएगा। इसके बाद ही सीजन के पूरी तरह शुरू होने से पहले ही मंडी में सभी समस्याओं को दूर कर दिया जाएगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप