जागरण संवाददाता, कैथल : पुलिस लाइन परिसर में सोमवार को मानव अधिकार के संरक्षण में पुलिस की भूमिका सकारात्मक या नकारात्मक विषय पर कार्यक्रम हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए एसपी वसीम अकरम ने कहा कि मानव अधिकारों का प्रयोग लोगों की भलाई के लिए होना चाहिए। जनता के साथ दिए बगैर आमजन के मानव अधिकारों की पुलिस समूचित रूप से रक्षा नहीं कर सकेगी।

जिसमें करनाल, पानीपत व कैथल पुलिस सहित करनाल रेंज के पुलिस कर्मचारियों ने हिस्सा लिया। नोडल अधिकारी डीएसपी मुख्यालय तरुण कुमार व डीएसपी कैथल कृष्ण कुमार मौजूद रहे। स्वतंत्र जज की भूमिका आरकेएसडी कालेज के प्रोफेसर चंद्रभान सैनी, श्रीओम व रामगोपाल ने निभाई।

सबइंस्पेक्टर रेखारानी प्रथम, जिला पानीपत पुलिस की सबइंस्पेक्टर किरण व जिला करनाल पुलिस से सबइंस्पेक्टर श्रीकांत संयुक्त रूप से द्वितीय रहे। पानीपत पुलिस की महिला कांस्टेबल रेखा ने तृतीय स्थान हासिल किया। अब मधुबन जिला करनाल में होने वाली राज्य स्तरीय वाद-विवाद प्रतियोगिता में भागीदारी करेंगे।

एसपी ने कहा कि पुलिस अधिकारियों को अधिकारों का समुचित ज्ञान होने के अतिरिक्त इस विषय पर समय-समय पर सामूहिक चर्चा करते रहना चाहिए।

रेंज के तीनों जिलों के चु¨नदा पुलिस अधिकारियों द्वारा मानव अधिकार के संरक्षण में पुलिस की भूमिका सकारात्मक या नकारात्मक विषय पर पक्ष-विपक्ष में अपने-अपने विचार खुल कर प्रगट किए। इनमें प्रथम, द्वितीय, तृतीय स्थान हासिल करने वालों के अतिरिक्त कैथल के आरआइ इंस्पेक्टर जितेंद्र, सिविल लाइन पुलिस के एचसी बलजीत ¨सह, रामलाल, सत्यवान मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस