जागरण संवाददाता, कैथल: जिले में बाढ़ सेफ्टी अभियान चल रहा है। वहीं, मंगलवार को दो घंटे तक हुई बारिश में ही शहर आंतरिक बाढ़ की चपेट में आ गया। हफ्ते में दो बार खुद डीसी सुनीता वर्मा ने शहर का ड्रेनेज सिस्टम जांच कर अधिकारियों को तीन दिन का समय दिया था, लेकिन जन स्वास्थ्य विभाग की सेहत पर उनके आदेशों का कोई असर नहीं दिखा। नतीजा यह हुआ है कि महज 20 एमएम बारिश में शहर जलमग्न हो गया। आज भी सभी ड्रेन और नाले गंदगी से अटे हैं।

शहर में हल्की बारिश के बाद ही बाढ़ जैसे हालात हैं। शहर की निचली बस्तियों को तो छोड़िए मुख्य मार्गों पर भी पानी जमा हो गया। सड़कों पर बारिश का पानी जमा हो जाने से पैदल चलने वालों को सबसे ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ा। लोगों ने जहां सूखा दिखाई दिया वहीं अपने वाहन को पार्क कर दिया। इससे पूरी यातायात व्यवस्था चरमरा गई, जिससे जाम जैसी स्थिति रही। वहीं जिला प्रशासन बाढ़ सुरक्षा सप्ताह मना रहा है। सोमवार को ही डीसी ने बाढ़ सुरक्षा से जिले की जनता को बचाने के लिए जागरूकता वैन को रवाना किया जो चार अगस्त तक सभी खंडों का दौरा करेगी।

बॉक्स

ये स्थान हुए पानी से लबालब

करनाल रोड, ढांड रोड, जीटीबी कॉलोनी, हुडा सेक्टर-19,20, भक्त ¨सह चौक, चंदाना गेट, पिहोवा चौक, कमेटी चौक, अर्जुन नगर, लघु सचिवालय के दोनों गेटों पर, मॉडल टाउन, अंबाला रोड, जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय के बाहर यह सभी मुख्य स्थान हैं, जो कुछ देर हुई बारिश से ही पानी में डूब गए।

बॉक्स

अंडरपास में फिर भरा पानी

पीडब्ल्यूडी विभाग और जिला प्रशासन मौत का कुआं बने अंडरपास से पानी की निकासी सुनिश्चित नहीं कर पाया। जून में हुई बारिश के कारण इन अंडरपास में कई कई फुट तक पानी भर गया था। जिसमें डूबकर दो बच्चों और एक युवक की मौत भी हुई थी। जिसके बाद भी अंडरपास की हालत ज्यों की त्यों हैं। मंगलवार को हलकी बारिश से जींद रोड पर बना रेलवे अंडरपास में फिर कई फुट तक पानी जमा हो गया। पानी से निकालते समय कई गिरते गिरते बचे, कुछ पानी को देख वापस लौट गए तो कुछ पानी में खराब हुई बाइक की किक मारकर परेशान दिखाई दिए। खास बात ये है इतना होने के बाद भी इन अंडरपास की तरफ किसी भी अधिकारी का ध्यान नहीं जा रहा है। अधिकारी इस गंभीर समस्या की अनदेखी कर रहे हैं।

बॉक्स

बारिश के बाद भी उमस बरकरार

- करीब महीने बाद हुई अच्छी बारिश से किसानों के चेहरे खिल गए, वहीं आमजन को यह बारिश भी गर्मी से राहत नहीं दिला सकी। 20 एमएम बारिश के बाद भी उमस बरकरार रही और लोग गर्मी से बेहाल रहे। बाहर बारिश हो रही थी और अंदर गर्मी से हाल बेहाल था। शहर में कई जगह पर बिजली भी प्रभावित रही।

वर्जन

बारिश से कुछ समय के लिए पानी भर गया था। अब एक दो जगह को छोड़कर कहीं जल भराव नहीं है। जहां पानी जमा है वह भी कुछ देर में निकल जाएगा।

- वी के सरोहा, कार्यकारी अभियंता, जन स्वास्थ्य विभाग कैथल।

वर्जन

वाकई शहर के हालात इतनी सी बारिश में ¨चताजनक हो गए हैं। मैंने खुद निकलकर स्थिति का अवलोकन किया है। पीडब्ल्यूडी विभाग के एक्सईएन को प्रबंध जांचने के आदेश दिए गए हैं। जवाबतलबी की गई है कि ऐसे हालात क्यों हुए। बताया गया है कि एक पंप खराब हो गया है, जिसे जल्दी ही ठीक करने को कहा गया है।

- सुनीता वर्मा, डीसी कैथल।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप