जागरण संवाददाता, कैथल : भारत सरकार के आवासीय एवं शहरी मामले विभाग के निदेशक महेंद्र पाल खडोलिया ने बुधवार को जल शक्ति अभियान के तहत जल संकट से निपटने, जल का सदुपयोग व संरक्षण करने के उद्देश्य से क्रियान्वित विभिन्न परियोजनाओं का निरीक्षण किया। उन्होंने संबंधित अधिकारियों व ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधियों को इन कार्यों को समयबद्ध पूरा करने के निर्देश दिए।

खडोलिया ने इस दौरान विभागीय व स्कूल परिसरों में जल संचय व भूमिगत जल स्तर में सुधार के लिए बनाए गए रेन वाटर हार्वेस्टिग सिस्टम का निरीक्षण किया। उसमें सुधार की संभावनाओं को तलाशते हुए महत्वपूर्ण टिप्स दिए।

कैथल के जन स्वास्थ्य विभाग जल परिक्षण प्रयोगशाला परिसर में बनाए गए रेन वाटर होर्वेस्टिग सिस्टम को देखते हुए खडोलिया व उनके साथ चल रहे वैज्ञानिक संजय कुमार नायक ने इसके सदुपयोग के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा करते हुए सुझाव दिया कि इसे रूफ टॉप सिस्टम से जोड़ा जाए और उसके पाइप को सीधे तौर पर इस रिचार्ज सिस्टम में डाला जाए।

उन्होंने विभागीय अधिकारियों के हवाले से बताया कि रिचार्ज बोर 145 फुट नीचे तक भूमिगत जल तक पहुंचाया गया है तथा 60 फुट पर फिल्टर भी लगाया गया है ताकि स्वच्छ पानी भूमिगत जल में पहुंच कर जलस्तर को बढाने और जल की उपलब्धता के दृष्टिगत उपयोग के काम आए। खडोलिया की अगुवाई में टीम स्थानीय पट्टी खोत के निकट बनाई गई आदित्य स्टील्स फैक्टरी में जल संरक्षण व जल संचय के दृष्टिगत बनाए गए वाटर रिचार्ज सिस्टम का अवलोकन किया। इसके बाद चंदाना के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में वाटर रिचार्ज बोर के चल रहे कार्य का निरीक्षण भी किया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप