जागरण संवाददाता, कैथल :

आरकेएसडी कॉलेज में आर्य वीर दल की तरफ से आयोजित दो दिवसीय विशाल आर्य महा सम्मेलन का रविवार को समापन हो गया। समापन कार्यक्रम में उत्तरप्रदेश के बागपत लोकसभा सांसद डॉ. सत्यपाल सिंह ने मुख्यातिथि के रूप में शिरकत की। जबकि हरियाणा की राज्य मंत्री कमलेश ढांडा के सुपुत्र तुषार ढांडा विशिष्ट अतिथि के रूप में शिरकत की।

लोकसभा सांसद डॉ. सत्यपाल सिंह ने कहा कि आर्य समाज ने हमेशा युवाओं के चरित्र निर्माण पर बल दिया है। वर्तमान में युवा अपनी संस्कृति से दूर हट रहे हैं, जिन्हें भारतीय संस्कृति से जोड़ना होगा। हमें युवाओं को अच्छे संस्कार देकर उनके चरित्र का निर्माण करना होगा।

उन्होंने कहा कि युवा स्वामी दयानंद सरस्वती द्वारा दिखाए गए रास्ते का अनुसरण करें व उनके पद चिन्हों पर चलकर मजबूत व संस्कारयुक्त राष्ट्र का निर्माण करें। ऋषि-मुनियों ने युवाओं को अच्छे संस्कार दिए हैं। आज भी हमें युवाओं को अपनी प्राचीन संस्कृति से रूबरू कराते हुए उन्हें संस्कारवान बनाना होगा।

उन्होंने कहा कि जीवन में अनुशासन का बहुत महत्व है तथा अनुशासन के बिना जीवन में सफलता प्राप्त नहीं की जा सकती। अनुशासन के बिना शासन भी नहीं चल सकता। उन्होंने युवाओं का आह्वान करते हुए कहा कि वे भारत की प्राचीन समृद्ध संस्कृति से जुड़े व देश की एकता व अखंडता को मजबूत बनाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दें।

आर्य वीर सम्मेलन के आयोजकों द्वारा महासम्मेलन के मुख्य अतिथि एवं लोकसभा सांसद डॉॅ. सत्यपाल सिंह को स्मृति चिह्न व शाल भेंटकर सम्मानित किया गया।

इस मौके पर आर्य वीर दल के अध्यक्ष देवव्रत सरस्वती, हरियाणा प्रतिनिधि सभा के अध्यक्ष रामपाल आर्य, आचार्य संदीप, विदेह योगी ने भी अपने-अपने राष्ट्र रक्षा सम्मेलन पर विचार रखे।

इस मौके पर आर्य वीर दल के संचालक उमेद शर्मा, वेद प्रकाश आर्य, आचार्य सोमदेव, ऋषिपाल, कार्यक्रम के संयोजक पवन कुमार आर्य, धर्मवीर आर्य, ब्रिजमोहन, बदन सिंह, रामबिलास, संजय सेतिया सहित गुरूकुल के ब्रहमचारी व छात्र-छात्राएं व अन्य लोग उपस्थित थे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस