जागरण संवाददाता, कैथल : प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन 134ए के दाखिलों के संबंध में आज बैठक कर अहम फैसले ले सकती है। प्राइवेट स्कूल संचालक 134ए के बच्चों के दाखिले के बढ़ते अनावश्यक दबाव से परेशान हैं। हालांकि नए सत्र में प्राइवेट स्कूल134ए के पुराने विद्यार्थियों को दाखिला देने से इन्कार कर रहे हैं। इसकी शिकायत लेकर अभिभावक खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय में भी पहुंच रहे हैं। एसोसिएशन के राज्य सचिव वरुण जैन व मुख्य संरक्षक बलिद्र संधू ने कहा कि बैठक कर एसोसिएशन के पदाधिकारी व स्कूल संचालक आगे की रणनीति पर विचार विमर्श करेंगे। उनका विरोध गरीब बच्चों को पढ़ाने को लेकर नहीं है, लेकिन उनका विरोध योजना की खामियों से है। अगर जल्द ही इन खामियों को दुरस्त नहीं किया गया तो प्राइवेट स्कूल संचालक बच्चों को नए सत्र में दाखिला नहीं देंगे। तुरंत दिया जाए तीन साल का बकाया

प्राइवेट स्कूलों को 2016-17, 2017-18, 2018-19 सत्र की 134ए की छात्रों की बकाया राशि जो विभाग द्वारा दी जानी थी नहीं दी गई। अधिकारी कई बार स्कूलों से सारी डिटेल ले चुके हैं, लेकिन उसके बाद भी राशि नहीं दी जा रही है। प्राइवेट स्कूलों की मांग है कि नए सत्र में दाखिला राशि मिलने के बाद ही दिए जाएंगे। एसोसिएशन फर्जी प्रमाण पत्र बनवाकर योजना के तहत दाखिले लेने वाले साधन संपन्न लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई चाहती है। नहीं चस्पा की सीटों की जानकारी

दूसरी तरफ खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय में अब तक प्राइवेट स्कूलों से प्राप्त खाली सीटों की जानकारी चस्पा नहीं की गई है। कार्यालय के कर्मचारियों का कहना है कि कुछ स्कूलों में ने जो सीटों की संख्या दी है उस पर संदेह था इसलिए सीटों का मिलान किया जा रहा है। बृहस्पतिवार को सीटों की जानकारी चस्पा कर दी जाएगी। एमआइएस लॉग इन आइडी नहीं होने से कर्मचारी परेशान

जिले के चार खंड में शिक्षा अधिकारी के पास कार्यकारी चार्ज है। विभाग की तरफ से कार्यकारी अधिकारी को एमआइएस की लॉग इन आइडी नहीं दी जाती। लॉग इन आइडी नहीं होने से छोटी से छोटी जानकारी का मिलान करने के लिए जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में मेल करनी पड़ती है। जबकि कार्यालय में लॉग इन आइडी की सख्त जरूरत है। कार्यालय कर्मचारियों के आइडी नहीं होने से पास किसी तरह का डाटा नहीं है। फार्म नहीं हो पा रहे ऑनलाइन

वेबसाइट बंद होने से कार्यालय से भी आवेदन आनलाइन नहीं हो पा रहे हैं। हालांकि अभिभावकों से आवेदन लिए जा रहे हैं। 11 अप्रैल आवेदन की अंतिम तारीख है।

कुछ शिकायतें दाखिला नहीं दिए जाने की कार्यालय में पहुंची है, लेकिन किसी ने भी लिखित में नहीं दिया है। अभिभावक लिखित में शिकायत दें, ताकि स्कूल संचालकों के पास कार्रवाई अमल में लाई जाए।

- रति राम शर्मा, खंड शिक्षा अधिकारी कैथल।

Posted By: Jagran