जागरण संवाददाता, कैथल:

भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के सदस्य शुगर मिल में धरने के दौरान दर्ज हुए केस वापस लेने की मांग को लेकर परिवहन, खनन एवं भू विज्ञान मंत्री मूलचंद शर्मा और विधायक लीला राम से मिले और मांगों का ज्ञापन सौंपा। इसकी अगुवाई रणदीप आर्य ने की। परिवहन मंत्री ने इस मामले को डीसी सुजान सिंह को सौंप दिया है।

रणदीप आर्य ने कहा कि कि किसान शांति पूर्वक धरना शुगर मिल में अपनी मांगों को लेकर दे रहे थे, लेकिन मिल प्रशासन ने किसानों की मांगों को पूरा करने की बजाए उन पर केस दर्ज कर दिए है। इससे किसानों में गहरा रोष है। गन्ने की मूल्य में 40 रुपये बढ़ोतरी की जाने की आवश्यकता है। गन्ने का मूल्य लागत के हिसाब से कम मिल रहा है। किसान अमीर, गरीब सभी का पेट भरता है, लेकिन किसान को अपनी फसल का उचित मूल्य नहीं मिलने के कारण आत्म हत्या करने का मजबूर होना पड़ रहा है। किसान को अपने परिवार का लालन पोषण करना मुश्किल हो रहा है।

किसान प्रशासन से चिप घोटाला की जांच करवाना जाते है, लेकिन प्रशासन घोटाले की जांच करने की बजाय किसानों को दबाना चाहती है। इससे किसी भी कीमत पर सहन नहीं किया जाएगा। किसानों ने कहा कि विधायक ने आश्वासन दिया है कि जल्द ही अपनी मांगों को पूरा किया जाएगा। इस अवसर पर सतीश कुमार, पाला राम, दयाल सिंह मलिक, दीपक, प्रेम सिंह, रणबीर सिंह नैन, प्रताप सिंह, धर्मबीर, रविद्र व राजेश मोहना उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस