जागरण संवाददाता, कैथल : शहर की सड़कों पर जानलेवा गड्ढे हादसों को न्योता दे रहे हें। शहर की ऐसी कोई सड़क नहीं जहां गड्ढे न हो। कहीं सीवरेज के गड्ढे ऊपर तो कहीं सड़कों से नीचे दिखाई देते हैं। कई सड़कों पर तो जन स्वास्थ्य विभाग की ओर से सीवरेज को सफाई के बाद खुला ही छोड़ दिया है, इस कारण वाहन चालक यह समझ ही नहीं पाता कि सड़कों पर कैसे सफर करें।

बुधवार को शहर की मुख्य सड़कों पर जाकर जानकारी हासिल की तो यहां पर गड्ढे ही गड्ढे ही मिले। टीम ने शहर के सुभाष नगर, देवीगढ़ रोड से न्यू करनाल रोड, रामनगर कॉलोनी से चंदाना गेट, चंदाना गेट से आंबेडकर चौक, सर छोटू राम चौक से ढांड रोड का दौरा किया। इन सभी सड़क पर गड्ढे ही गड्ढे दिखाई दिए। इस कारण किसी न किसी सड़क पर हादसे हो रहे हैं। कई बार इस बारे में विभागीय अधिकारियों को अवगत भी करवाया जा चुका है, लेकिन इस पर कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

बाक्स- साल भर से गड़्ढे ज्यों का त्यों

पुराना जींद रोड बाईपास स्थित सुभाष नगर पहुंचे तो एक बड़ा गड्ढा दिखाई पड़ा। यहां के कॉलोनीवासी राजकुमार ने बताया कि सड़क पर गड्ढा पिछले एक साल से है जो ज्यों का त्यों है। इसकी शिकायत कई बार संबंधित विभाग को दी गई है, लेकिन किसी भी अधिकारी ने इस समस्या के समाधान को लेकर कोई समाधान नहीं किया है।

बाक्स- तीन साल से सीवरेज का बना गड्ढा

देवीगढ़ रोड पर पहुंचे यहां कॉलोनी के पुष्पेंद्र सिंह ने बताया कि देवीगढ़ से बलराज नगर और फाटक की ओर जाने वाले चौक पर पिछले तीन साल से सीवरेज का गड्ढा बना है, यहां से गुजरने वाले राहगीरों को परेशानी झेलनी पड़ रही है। देवीगढ़ रोड से रामनगर पहुंचे तो प्रीतम सिंह, लीला ने बताया कि रामनगर से लेकर नई अनाज मंडी तक जाने वाली सभी सड़कों पर जगह जगह गड्ढे बने हैं। इन सड़कों पर कई स्कूली विद्यार्थी गिरकर घायल हो चुके हैं, हाल ही में मार्केट कमेटी की ओर से इन सड़कों के दोबारा निर्माण करने के लिए टेंडर भी अलॉट किया गया था, उस समय कॉलोनी के लोगों में खुशी का माहौल था, लेकिन पीडब्लयूडी के पास मार्केट कमेटी की ओर से बजट न जमा कराने के कारण यह सड़क का निर्माण रद्द हो गया।

बाक्स- सड़क पर बने गहरे गढ्डे

रामनगर के बाद चंदाना गेट पर सैनी स्कूल से शहर की ओर जाने वाली सड़क भी खस्ताहाल मिली। यहां के कॉलोनी निवासी अनिल सैनी और ओमप्रकाश ने बताया कि स्कूल से लेकर चंदाना गेट के चौक पर एक किलोमीटर तक सड़क पर गहरे गड्ढे बने है, जिस कारण हर समय हादसों का भय बना है। रात के समय तो सड़क पर बने यह गड्ढे दिखाई भी नहीं देते हैं। चंदाना गेट से आंबेडकर चौक पर पहुंचे तो यहां पर बनी दो पुलिया बीच गहरा गड्ढा मिला। यह गड्ढा दो फुट तक का है, जहां पर दो पहिया और चार पहिया वाहन भी गिर सकता है।

बाक्स- खुले छोड़े गए सीवर के ढक्कन

आंबेडकर चौक के बाद कुरुक्षेत्र सड़क पर पहुंचे तो यहां पर जन स्वास्थ्य विभाग की ओर से सीवरेज के ढक्कन खुले छोड़े गए हैं। जिस कारण वाहन चालकों के साथ हादसा होने का अधिक खतरा बना है। इस पर विभाग काफी उदासीनता बरत रहा है।

वर्जन : अधिकतर सड़के नगर परिषद के अधीन

पीडब्लयूडी विभाग के एक्सईएन कुलदीप चंद ने बताया कि शहर के सभी सड़कें विभाग के अधीन नहीं है, अधिकतर सड़कें नगर परिषद के अधीन आती है। विभाग की ओर से जींद बाईपास, रामनगर और नई अनाज मंडी की सड़क को लेकर टेंडर लगाया गया है। जल्द ही इन सड़क का निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा। जबकि अन्य सड़कों के निर्माण की जानकारी नगर परिषद देगी।

वर्जन : समस्या का जल्द समाधान कराया जाएगा

जन स्वास्थ्य विभाग के एसई देवी लाल ने बताया कि विभाग के कर्मचारियों की ओर से खोले गए सीवरेज की जानकारी उन्हें नहीं है, यदि ऐसी कोई समस्या है तो उसकी जानकारी लेकर उसका समाधान करवाया जाएगा। ----------------

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस