संवाद सहयोगी, गुहला-चीका : भाजपा-जजपा गठबंधन की सरकार बने लगभग एक माह होने वाला है। अभी तक इन दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं की आपस में पटरी कैसे बैठेगी इस पर दोनों पार्टियों में से किसी ने कोई चर्चा नहीं की। उक्त आरोप कांग्रेस के पूर्व संसदीय सचिव दिल्लू राम बाजीगर ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए लगाए। उन्होंने कहा कि चुनाव से पहले एक-दूसरे का विरोध कर चुनाव लड़ चुकी दोनों पार्टियों के कार्यकर्ता फिलहाल तो एकत्रित होकर एक जगह बैठे ही नहीं तो तालमेल कैसे होगा। उन्होंने कहा कि बड़े-बड़े वायदे कर मौकापरस्त गठबंधन कर सत्ता में आई सरकार ने अभी तक एक भी वायदा पूरा करने की तरफ कोई कदम नहीं बढ़ाया है। बुढ़ापा पेंशन दो हजार से बढ़ाकर 5100 रुपये करने का वायदा करने वाली जजपा अपनी इस मांग पर अभी तक खामोश क्यों है, किसानों का कर्जा माफी, बेरोजगारी भत्ते पर भी सरकार ने अभी तक कोई फैसला नहीं लिया। उन्होंने कहा कि गुहला हलका में नशे पर रोक लगाने को लेकर चुनाव के वक्त बड़े-बड़े दावे करने वाले नेता जो आज चुनाव जीत चुके है उन्होंने अभी तक नशे पर किस प्रकार रोक लगानी है इसका कोई रोड मैप तैयार नहीं किया। केवल ब्यान बाजी से नशा रुकाने वाला नहीं है। जमीनी स्तर पर कार्रवाई करने की जरूरत है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप