जागरण संवाददाता, कैथल : बेसहारा पशुओं की समस्या लगातार बढ़ती जा रही है। नियमित समाधान को लेकर प्रशासन की ओर से कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा है। शहर की सड़कों पर करीब 700 पशु हैं, जिनके कारण हादसे बढ़ रहे हैं। रात के समय पशु सड़कों पर आकर बैठ जाते हैं जो हादसों का कारण बन रहे हैं। अंबाला रोड, ढांड रोड, अमरगढ़ गामड़ी, बालाजी कालोनी, चंदाना गेट, माता गेट पर पशुओं की समस्या ज्यादा है। जहां झुंड बनाकर पशु घूमते हैं। हुडा के सेक्टरों में भी बेसहारा पशुओं की भरमार है। हालांकि नगर परिषद की ओर से नंदीशाला में शेड का निर्माण किया जाना है। इस पर 25 लाख रुपये खर्च किए जाएंगे। टेंडर प्रक्रिया पूरी हो चुकी है और ठेकेदार को वर्क ऑर्डर जारी किया जाना है। शेड निर्माण होने के बाद पशुओं को पकड़ने का टेंडर लगाया जाएगा। जरूरत के हिसाब से नंदीशाला में पशुओं को छोड़ा जाएगा। शहर में चार गोशालाओं में दस हजार पशु हैं।

सभी गोशाला संचालकों को पशु लेने के लिए तैयार किया जाए तो शहर के सभी पशुओं को गोशाला में छोड़ा जा सकता है। शहर की समाजसेवी संस्थाएं भी पशुओं को पकड़ने की मांग प्रशासन से कर चुकी है।

जल्द ही वर्क आर्डर जारी किया जाएगा

नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी अशोक कुमार ने बताया कि नंदीशाला में शेड निर्माण को लेकर जल्द ही ठेकेदार को वर्क ऑर्डर जारी किया जाएगा। शेड निर्माण के बाद ही पशुओं को पकड़ने का टेंडर लगाया जाएगा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस