जागरण संवाददाता, पानीपत : भाजपा पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ हरियाणा की ओर से शुक्रवार को मॉडल टाउन स्थित मुलतान भवन में शहीद सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। समारोह में सियासतदान ही शहीदों का सम्मान भूल गए। शहीदों की विरांगनाओं और परिजनों को अपराह्न 2 बजे का समय दिया गया था। करीब डेढ़ बजे से परिवार पहुंचने शुरू हो गए थे। भीड़ बढ़ने और कुर्सी भरने के इंतजार में कार्यक्रम करीब 2 घंटे देरी से शुरू किया गया। मुख्य अतिथि राज्यसभा सांसद जनरल डीपी वत्स भी गेस्ट हाउस में बैठे रहे। बहाना जींद उपचुनाव में व्यस्तता बनाया गया।

सायं चार बजे शुरू हुए कार्यक्रम में पानीपत, करनाल, कैथल, अंबाला, यमुनानगर, कुरुक्षेत्र और सोनीपत आदि जिले से शहीदों के परिजनों को बुलाया गया था। राज्य सभा सांसद डीपी वत्स ने कहा कि कोई भी राष्ट्र उन्नति तभी कर सकता है जब वहां सैनिकों और उनके परिजनों को पूरा सम्मान मिले। पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में शहीदों के शव ससम्मान घर पहुंचाने का आदेश लागू हुआ था। शहीदों के आश्रितों के नाम पेट्रोल पंप, गैस एजेंसी सुविधाएं मिलनी शुरू हुई थी। इसी कड़ी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी सैनिक सम्मान के पक्षधर हैं। शहीद के परिजनों को 50 लाख रुपये का अनुदान दिया जाता है। विधवा को पेंशन मिलती है। बच्चों को पढ़ाई के लिए वजीफा दिया जाता है। नौकरी में भी पद आरक्षित हैं।

प्रकोष्ठ के प्रांतीय संयोजक कर्नल राजेंद्र ¨सह सुहाग ने भी शहीद के परिवार को मिलने वाली सुविधाओं के बारे में बताया। शहीदों के परिजनों का शॉल ओढ़ाकर सम्मान किया गया।

प्रकोष्ठ के जिला प्रभारी कर्नल एसके ओबराय ने कार्यक्रम देर से शुरू होने पर खेद प्रकट करते हुए, आगंतुकों का आभार प्रकट किया।

भाजपा कार्यकर्ताओं के नाम पर गिनती के लोगों ने की शिरकत

कार्यक्रम में भाजपा कार्यकर्ताओं की गैर-मौजूदगी को लेकर संचालन कर रहे देवेंद्र दत्ता को मंच से बार-बार सफाई देनी पड़ी। उन्होंने कहा कि सक्रिय कार्यकर्ता जींद उपचुनाव में व्यस्त हैं। इस मौके पर हरिओम, कमला, बोहती देवी, सरोज बाला, शांति, बबीता, रोशनी और ओमपति आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप