संवाद सूत्र, सफीदों : नगरपालिका द्वारा पिछले पांच सालों में करवाए गए विकास कार्यों की विजिलेंस जांच की मांग को लेकर भाजपा नेता रामदास प्रजापत ने सीएम मनोहर लाल के नाम ज्ञापन एसडीएम मनदीप कुमार को सौंपा। रामदास प्रजापत ने कहा कि नगरपालिका सफीदों भ्रष्टाचार का अड्डा बन चुकी है। अधिकारियों को जिस कार्य में ज्यादा कमीशन मिलता है, उस कार्य को बहुत जल्द शुरू करवा देते हैं और बाकी कार्यों को लटकाते रहते हैं। कोई भी विकास कार्य बिना कमीशनखोरी के नहीं होता। हरियाणा सरकार ने नगरपालिका सफीदों को विकास कार्यों के लिए लगभग 35 करोड़ रूपये दिए, लेकिन उच्चाधिकारियों ने नगरपालिका द्वारा कराए गए विकास कार्यों का फीडबैक नहीं लिया। सरकार की ओर से भी कमीशन लेने वाले अधिकारियों के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया गया। सफीदों का खानसर चौक पर स्वागत द्वार बनाया गया था। जो उद्घाटन होने से पहले ही भरभराकर गिर गया। अब वहां पर स्वागत द्वार के नाम पर केवल दो पिलर ही खड़े हैं। इस मामले में आजतक ना तो ठेकेदार और ना किसी अधिकारी के खिलाफ कोई कार्रवाई हुई। पूरे शहर में बनाए गए भूमिगत नाले में भी भ्रष्टाचार हुआ है। हाट रोड से लगभग 2500 मीटर लंबाई का गंदे पानी की निकासी का नाला बनवा कर राजकीय माध्यमिक विद्यालय आदर्श कालोनी की खाली पड़ी जमीन पर डाल दिया गया। यहां से गंदे पानी की निकासी का कोई भी प्रबंध नहीं है। बरसात के समय यह गंदा पानी वार्ड नंबर 14 व 15 के गरीब व मजदूरों की आबादी के लिए भारी परेशानी का सबब बना हुआ है। पांच साल पहले जींद रोड से राजकीय माध्यमिक विद्यालय वार्ड 14 व 15 मुख्य गली में सीवरेज लाइन बिछाई गई थी। उसमें गली का 200 मीटर का टुकड़ा सीवरेज मैनहोल के कारण काफी ऊंचा-नीचा है। जिसके कारण बच्चों को स्कूल आने-जाने में काफी परेशानी होती है। नगरपालिका ने जब से घर द्वार कूड़ा उठाने वाली गाड़ी लगाई है, तब से वार्ड 14 में यह गाड़ी कूड़ा लेने के लिए आज तक नहीं आई। अगर दोषियों के खिलाफ एक्शन नहीं लिया गया, तो वह 20 जुलाई से धरने पर बैठ जाएंगे।

Edited By: Jagran