जागरण संवाददाता, जींद : रानी तालाब के पास छह दिन पहले दिनदहाड़े रोहतक के व्यापारी राजू को गोली मारकर एक लाख 52 हजार रुपये की लूट की वारदात को पुलिस ने सुलझा लिया। वारदात की साजिश रचने का मुख्य आरोपित रामराये गेट निवासी रवि कपड़ा मार्केट में पोलिथिन की दुकान चलता है। शुक्रवार को पुलिस ने सेक्टर 8 से आरोपित श्यामा को काबू कर पूछताछ की तो पूरा मामला खुल गया। इसके बाद रवि को भी गिरफ्तार कर लिया। तीसरा आरोपित दिल्ली निवासी शालू फरार है। शनिवार को पुलिस ने रवि व श्यामा को अदालत में पेश कर दो दिन के रिमांड पर लिया।

फरवरी में ही रच ली थी साजिश

पुलिस के अनुसार रवि ने व्यापारी राजू से लूटपाट की वारदात की साजिश फरवरी माह में ही रच ली थी। इसके लिए आरोपित ने पटियाला चौक निवासी दोस्त अनिल की उस समय लाइसेंसी पिस्तौल चोरी कर ली जब वह परिवार सहित बाहर गया हुआ था। पिस्तौल की व्यवस्था होने के बाद रवि ने विश्वकर्मा कॉलोनी जींद निवासी सार्थक उर्फ श्यामा व दिल्ली निवासी शालू से संपर्क किया। दोनों आरोपितों पर पहले भी मामले दर्ज हैं।

हर रविवार को पेमेंट लेने आता था राजू

रवि ने श्यामा और शालू को बताया कि रोहतक निवासी राजू शहर की कई दुकानों पर डिस्पोजल व दूसरा सामान सप्लाई करता है। वह पेमेंट लेने के लिए हर रविवार को जींद आता है। इसके बाद आरोपितों ने प्लान तैयार किया। 16 जून को जब व्यापारी राजू शहर में पेमेंट लेने आया और उसने रवि से संपर्क किया। रवि ने राजू को साढ़े 37 हजार रुपये की पेमेंट कर दी। जब राजू दुकान पर बैठा था तो रवि ने बदमाश श्यामा व शालू को उसे दिखा दिया।

यहां से निकलने के बाद आरोपित राजू का पीछा करते रहे। व्यापारी सभी दुकानदारों से पेमेंट लेकर बस स्टैंड पर आने के लिए ऑटो में सवार हो गया। रानी तालाब के निकट इत्तफाकिया एक लड़की ने ऑटो रुकवा लिया। इसका फायदा उठाकर श्यामा व शालू राजू से बैग छीनने लगे, लेकिन व्यापारी ने उसे नहीं छोड़ा। इस पर आरोपितों ने पिस्तौल से उसके पांव में गोली मार दी और बैग लेकर फरार हो गए।

वारदात के बाद भाग गए दिल्ली

वारदात को अंजाम देने के बाद शालू तो उसी समय दिल्ली चला गया। पुलिस के डर से उसी रात श्यामा भी दिल्ली चला गया। यहां वह शालू के पास रह रहा था। वारदात के बाद सीआइए प्रभारी वीरेंद्र खर्ब ने जांच शुरू की। पीड़ित व्यापारी से जब पूरे घटनाक्रम की जानकारी ली तो शक की सुई रवि पर गई। इसी दौरान पुलिस को पता चला कि वारदात में विश्वकर्मा कॉलोनी निवासी श्यामा शामिल है।

पैसे की जरूरत थी इसलिए रची कहानी

डीएसपी धर्मबीर सिंह ने बताया कि आरोपित रवि ने बताया कि उसे पैसे की जरूरत थी। उसे पता था कि व्यापारी प्रत्येक सप्ताह चार से पांच लाख रुपये रिकवरी करके ले जाता है। इसके बाद आरोपित श्यामा व शालू से संपर्क किया और लूटी गई राशि को तीन हिस्सों में बांटने की बात कही। रवि को मामले में मुखबरी करनी थी। वारदात को श्यामा व शालू ने अंजाम दिया। श्यामा ने लूटी गई राशि में अपना हिस्सा ले लिया। पुलिस ने जब उसे पकड़ा तो उसके पास से 25 हजार रुपये की नकदी बरामद हुई। बची हुई राशि को आरोपित शालू दिल्ली ले गया। रवि का हिस्सा मामला शांत होने के बाद देना था।

वारदात के बाद पुलिस भर्ती की ली कोचिग

पकड़ा गया आरोपित विश्वकर्मा कॉलोनी निवासी सार्थक उर्फ श्यामा पहले शराब ठेकों पर नौकरी करता था। इस दौरान पुलिस ने अवैध पिस्तौल के साथ पकड़ा था। बाद में शराब ठेकेदारों ने उसे नौकरी से हटा दिया। इसके बाद आरोपित श्यामा जिम चलाने लगा। फिलहाल वह पुलिस की भर्ती की तैयारी कर रहा था। 16 जून को वारदात के बाद दिल्ली जाने पर तीन दिन तक पुलिस भर्ती का टेस्ट देने के लिए कोचिग भी ली। शुक्रवार को वह जींद आया। जहां पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

शालू पहले भी मामलों में वांछित

फरार आरोपित शालू पहले भी जींद जिले आपराधिक मामलों में सक्रिय रहा है। उस पर जानलेवा हमले सहित करीब चार मामले दर्ज हैं, लेकिन अभी तक वह पुलिस की गिरफ्त में नहीं आया है। पिछले वर्ष शालू ने बाजार में एक ज्वेलर्स पर भी हमला किया था। पुलिस के अनुसार आरोपित दिल्ली में किराये के मकान पर रहता है। श्यामा व रवि से जिस नंबर से वह संपर्क करता था वो भी वारदात के बाद बंद कर दिया।

जींद में था सीएम का कार्यक्रम

आरोपितों ने जिस दिन लूटपाट की वारदात को अंजाम दिया, उस दिन नई अनाज मंडी में राज्य स्तरीय कबीर जयंती समारोह में सीएम मनोहरलाल आए हुए थे। इसके कारण शहर में कड़ी सुरक्षा थी। बस स्टैंड के पास से सीएम का ट्रैफिक रूट बनाया गया था। इसके बावजूद दिनदहाड़े व्यापारी को गोली मार कर बदमाश नकदी छीनकर आसानी से भाग गए थे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप