पुलिस ने ऐसे आरोपों को नकारते हुए दबाव डालने की रणनीति बताया है। जागरण संवाददाता, जींद: सब्जी मंडी में पुलिस द्वारा दुकानें बंद कराने का विरोध करते हुए हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के पदाधिकारियों व सब्जी मंडी के दुकानदारों ने पुलिस पर सामान उठाने का आरोप लगाया। जबकि पुलिस ने ऐसे आरोपों को नकारते हुए दबाव डालने की रणनीति बताया है।

व्यापार मंडल के जिला प्रधान महावीर कंप्यूटर ने कहा कि रविवार को शहर थाना प्रभारी व उनकी टीम सब्जी मंडी में पहुंची और लॉकडाउन की आड़ में दुकानदारों पर लाठियां भांजी। कंप्यूटर ने आरोप जड़ा कि पुलिस गौरव रेहड़ी वाले के 75 पैकेट गुड़, किराना दुकानदार दीपक मित्तल की दुकान से 12 किलोग्राम देसी घी व अन्य दुकानदारों का सामान भी उठा लाई। इससे व्यापारियों में काफी रोष व गुस्सा है। सोमवार को एकत्रित हुए व्यापारियों ने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की और रोष प्रकट किया। कंप्यूटर ने कहा कि शहर थाना पुलिस ने पहले भी कई बार कोरोना की आड़ में निर्दोष दुकानदारों पर लाठियां बरसाई गई हैं। इस अवसर पर नगर प्रधान ई‌र्श्वर बंसल, उपप्रधान राधेश्याम बिदल, सचिव सुरेश गर्ग ने कहा कि पुलिस का तानाशाही रवैया व्यापारियों को उकसा रहा है। --पुलिस ने सामान अंदर रखा था, उठाया नहीं

प्रदेश में लॉकडाउन लगाया गया है। इसकी व्यवस्था बनाना पुलिस का काम है। सब्जी मंडी में निर्धारित समय के बाद भी दुकानें खोली गई थी। जब पुलिस वहां पहुंची तो दुकानदार सामान छोड़ कर भाग गया। पुलिस ने उसका सामान उठाकर दुकान के अंदर रखा है। कोई सामान पुलिस साथ नहीं लाई है। कुछ व्यापारी पुलिस पर दबाव बनाने के लिए ऐसा कर रहे हैं। सारी कार्रवाई नियमानुसार की गई है। किसी भी दुकानदार को लाठी नहीं मारी गई।

-डा. सुनील कुमार, शहर थाना प्रभारी, जींद