जागरण संवाददाता, जींद :

हेलमेट न पहनकर और मुंह पर कपड़ा बांधकर स्कूटी चलाने वाली महिलाओं के भी अब चालान किए जाएंगे। ट्रैफिक ने मंगलवार से अभियान शुरू कर दिया। पहले दिन छह महिलाओं के चालान काटे। अब रोज शहर के अलग-अलग चौराहों के चेकिग अभियान चलाया जाएगा। इस दौरान लेडी कांस्टेबल भी साथ थी।

नए ट्रैफिक नियम लागू होने के बाद काफी संख्या में लोगों ने हेलमेट पहनने शुरू कर दिए हैं। लेकिन ज्यादातर महिलाएं बिना हेलमेट ही स्कूटी चलाती हैं। इस पर पुलिस मुख्यालय ने प्रदेशभर में पत्र जारी करके महिलाओं को ट्रैफिक नियमों के बारे में जागरूक करने और नियमों का पालन न करने पर चालान काटने के आदेश दिए हैं। मंगलवार को दुर्गा शक्ति टीम व ट्रैफिक पुलिस के सब इंस्पेक्टर राजाराम व एएसआई मेवा सिंह ने बस स्टैंड, रानी तालाब, देवीलाल चौक के अलावा आधा दर्जन शहर के सार्वजनिक स्थानों पर स्कूटी सवार महिलाओं के कागजात चेक किए गए। इस दौरान हेलमेट न पहनने पर छह महिलाओं के चालान भी काटे। कॉलेज जाने वाली छात्राओं व महिलाओं को यातायात नियमों के बारे में जागरूक भी किया गया। सब इंस्पेक्टर राजाराम ने बताया कि जिन वाहन चालकों के कागजात पूरे पाए जाते हैं, उन्हें अन्य नियमों की खामी पाए जाने पर जागरूक किया जाता है। महिलाएं एवं खासकर स्कूल, कॉलेज की अधिकांश छात्राओं के पास न तो लाइसेंस होते और न ही हेलमेट।

एक हजार रुपये का चालान

नए ट्रैफिक नियमों के तहत हेलमेट न पहनने पर एक हजार रुपये का चालान काटा जाता है। ट्रैफिक सब इंस्पेक्टर राजाराम ने कहा कि उनका लक्ष्य महिलाओं की जान की सुरक्षा करना है। सिर पर हेलमेट पहना होगा तो सड़क पर मिस हैपनिग से बचा जा सकता है। इसीलिए महिलाओं को जागरूक किया जा रहा है और चालान भी काटे जा रहे हैं।

कई ने डिग्गी में रखा हुआ था हेलमेट

बस स्टैंड के पास चेकिग अभियान के दौरान जब हेलमेट न पहनने पर स्कूटी सवार महिलाओं को रुकवाया तो उनकी डिग्गी में हेलमेट रखा हुआ था। इन महिलाओं को सख्त चेतावनी देकर छोड़ दिया और कहा कि भविष्य में हेलमेट न पहनने पर चालान काट दिया जाएगा। एएसआई मेवा सिंह ने कहा कि वाहन के सभी कागजात आरसी, बीमा पूरे करके व हेलमेट पहनकर ही वाहन को लेकर सड़क पर उतरें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस