संवाद सूत्र, नरवाना : गांव अंबरसर से 17 जुलाई को लापता हुए युवक का शव वीरवार को सिरसा ब्रांच नहर में कार के अंदर मिला है। युवक के लापता होने की शिकायत स्वजनों ने सदर थाने में दी हुई थी। नहर में मिले शव को स्वजनों ने इत्तफाकिया हादसा माना और किसी पर कोई आरोप नहीं लगाए। पुलिस ने मृतक के शव का पोस्टमार्टम करा स्वजनों को सौंप दिया।

गांव अंबरसर निवासी सुरेश ने पुलिस को बताया कि उसका लड़का 30 वर्षीय सिद्धार्थ 27 जुलाई को स्विफ्ट कार में कहीं बाहर जाने की कहकर घर से गया था। उसके बाद रात को लड़के का फोन आया कि वह गांव उझाना के बस स्टैंड पर है और घर आ रहा है। उसके बाद फोन बंद आने लगा। उसकी रिश्तेदारियों में पता किया, लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल सका। इसके बाद सुरेश द्वारा सिद्धार्थ की गढ़ी थाना में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवा दी। सिद्धार्थ के लापता होने पर उसके स्वजनों ने उसके फोन की लोकेशन निकलवाई तो वह मोहल्लखेड़ा व सुरजाखेड़ा के बीच में सिरसा ब्रांच नहर पुल के पास की मिली। जहां उन्होंने जाकर देखा, तो वहां कार के टायरों के निशान मिले। इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई और गोताखोरों को बुलाकर उसकी नहर में तलाश की तो कार सहित सिद्धार्थ का शव नहर में मिला। फिर क्रेन की सहायता से कार को बाहर निकाला गया। सिद्धार्थ के शव को नागरिक अस्पताल ले जाया गया। जहां पुलिस ने आगामी कारवाई कर दी। रात होने पर रास्ता भटक गया था सिद्धार्थ

27 जुलाई को सिद्धार्थ के उसके पिता सुरेश के साथ फोन पर बात हुई थी, जिसके बाद उसने घर आने की बात कही थी। सुरेश ने आशंका जताई कि उसका बेटा जब वह उझाना से अपने गांव अंबरसर की ओर कार में जा रहा था, तो सिरसा ब्रांच नहर के साथ लगते रास्ते से जाने लगा। लेकिन रात होने के कारण वह रास्ता भटक गया और उसने एक किसान से गांव अंबरसर जाने का रास्ता भी पूछा। किसान ने कहा कि वह गलत रास्ते पर आ गया था। जिसके बाद शायद सिद्धार्थ ने कार नहर की पटरी पर कार मोड़ना चाहा तो उसने कार को नहर की ओर पीछे की और वह कार पर नियंत्रण नहीं रख सका। जिससे उसकी कार नहर में उतर गई और गहरे पानी में चली गई। रात होने के कारण किसी ने कार में गिरते नहीं देखा और सिद्धार्थ ने कार से बाहर निकलने की कोशिश भी की, लेकिन वह कामयाब नहीं हो सका। जिसके बाद वह मौत के आगोश में चला गया।

Edited By: Jagran